संवाद सूत्र, खैरा : उपमंडल के खैरा क्षेत्र में मंगलवार को युवक की मौत पर आक्रोशित ग्रामीणों ने चक्काजाम कर दिया। ग्रामीणों का कहना था कि अगर सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र खैरा में डॉक्टर होता तो युवक की जान बच सकती थी।

हुआ यूं कि खैरा अस्पताल के समीप मंगलवार को टेंपो व बाइक की टक्कर हो गई। बाइक (एचपी 37 ई-3840) को सन्नी कुमार पुत्र पूर्ण चंद निवासी पनखर चला रहा था। बाइक सवार तेज रफ्तार से था और अस्पताल के समीप टेंपो (एचपी 17 सी 4147) से जा टकराया। हादसे में गंभीर रूप से जख्मी हुए युवक को लोग अस्पताल ले गए, लेकिन हॉस्पिटल में डेंटल डॉक्टर और नर्सिग स्टाफ ही था। इस कारण प्राथमिक उपचार के बाद सन्नी कुमार को सिविल अस्पताल पालमपुर रेफर कर दिया। बताया जा रहा है कि रास्ते में ही युवक ने दम तोड़ दिया। जब युवक का शव पोस्टमार्टम के बाद गांव पहुंचाया गया तो लोगों ने सड़क पर बैठकर चक्काजाम कर दिया। लोग विधायक को मौके पर बुलाने की बात कर रहे थे। हालांकि तहसीलदार पालमपुर ने घटनास्थल पर पहुंचकर लोगों को समझाने का प्रयास किया, लेकिन वे विधायक को मौके पर बुलाने की मांग लोग करते रहे। सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र खैरा में लंबे समय से डॉक्टरों के पद रिक्त हैं लेकिन इन्हें भरने के लिए कोई कार्रवाई नहीं हो पाई है। यही कारण है कि जब घायल युवक को अस्पताल लाया गया तो उसे उचित इलाज नहीं मिल पाया। मौके पर मौजूद डेंटल डॉक्टर, नर्स और फार्मासिस्ट ने उसे प्राथमिक उपचार देकर रेफर कर दिया लेकिन रास्ते में ही मौत हो गई। एसएचओ ओपी ठाकुर ने कहा कि पुलिस ने मामला दर्ज कर कार्रवाई शुरू कर दी है। उधर, सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र खैरा में मौजूद डेंटल डॉक्टर डॉ. अनुराग ने बताया कि घायल युवक को प्राथमिक उपचार के बाद सिविल अस्पताल रेफर कर दिया था।

Edited By: Jagran