जेएनएन, धर्मशाला। नई पेंशन स्कीम (एनपीएस) कर्मचारी एसोसिएशन की बैठक रविवार को जिला अध्यक्ष राजिंद्र मिन्हास की अध्यक्षता में शाहपुर में हुई। इसमें 15 फरवरी को पुरानी पेंशन योजना की बहाली के मांग के समर्थन में शिमला में होने वाली रैली के लिए रणनीति बनाई गई। राजिंद्र मिन्हास ने कहा नई पेंशन स्कीम के कर्मचारी लंबे समय से प्रदेश सरकार से केंद्र के लाभ व पुरानी पेंशन योजना बहाली के लिए कमेटी फ्रेम करने की मांग कर रहे हैं। लेकिन सरकार महज दिलासा दे रही है। इन्हीं मांगों के समर्थन में 15 फरवरी को शिमला में प्रदेशभर के कर्मचारी रैली निकालेंगे।

बैठक में वरिष्ठ राज्य उपाध्यक्ष डॉ. संजीव गुलेरिया, राज्य उपप्रधान सुभाष शर्मा, प्रदेश महिला ¨वग महासचिव ज्योतिका मेहरा, राज्य सहसचिव पंकज शर्मा, अजय राणा, कांगड़ा जिला कार्यकारणी वरिष्ठ उपप्रधान संजीव कपूर, कोषाध्यक्ष रविंद्र मिन्हास, मुख्य सलाहकार कुलदीप कुमार, वन विभाग के कांगड़ा जिला प्रधान संदीप गुलेरिया, खंड प्रधान हर्ष कुमार, मंजीत कुमार, सुशील कुमार, अजय प्रजापति, तिलक शास्त्री, अश्वनी शर्मा, सुशील शर्मा, राजीव समकड़िया, वीरेश भारती, बलविंद्र कुमार, राकेश पटियाल, परमवीर भट्ट, पवन कुमार, तिलकराज मौजूद रहे। न्यू पेंशन स्कीम कर्मचारी महासंघ प्रदेश के वरिष्ठ उपाध्यक्ष डॉ. संजीव गुलेरीया ने कहा बिना कर्मचारियों की सहमति के सरकार उनका अंशदान शेयर बाजार में कैसे निवेश कर सकती है। उन्होंने कहा यदि नई पेंशन स्कीम अच्छी है तो इसे सांसदों और विधायकों की पेंशन पर क्यों नहीं लागू किया जाता है? सरकार को क्या कर्मचारियों को न्यूनतम पेंशन देने का आश्वासन नहीं देना चाहिए। संजीव गुलेरीया ने सरकार से जानना चाहा कि पुरानी पेंशन स्कीम की मांग मानने में क्या कठिनाई है। यदि नई स्कीम इतनी अच्छी है तो स्वयं पर क्यों नहीं लागू करते?

बैजनाथ से 500 कर्मचारी जाएंगे शिमला

न्यू पेंशन कर्मचारी एसोसिएशन ब्लॉक बैजनाथ की बैठक में भी शिमला में 15 फरवरी को होने जा रही रैली बारे चर्चा की गई। ब्लॉक सचिव किशोरी लाल व कोषाध्यक्ष चमनलाल ने कहा बैजनाथ से शिमला के लिए पांच सौ कर्मचारी जाएंगे। ब्लॉक प्रधान सुरेश ठाकुर ने कहा मुख्यमंत्री ने तपोवन में आश्वासन दिया था कि एक माह के भीतर पुरानी पेंशन योजना की बहाली के लिए कमेटी गठित होगी तथा दिव्यांग, मृत्यु के पारिवारिक पेंशन जोकि केंद्र सरकार ने 2009 से लागू कर दी है, उसे हिमाचल में भी लागू करने का आश्वासन दिया था। कई महीने बीत गए परंतु कोई कदम नहीं उठाया गया है। यदि सरकार का यही रवैया रहा तो कर्मचारी संगठन महाहड़ताल पर जाने से भी गुरेज नहीं करेगा। ब्लॉक के वरिष्ठ उपप्रधान संजय शर्मा ने कहा यदि सरकार ने पुरानी पेंशन योजना की बहाली बारे कोई कदम नहीं उठाया तो सभी कर्मचारी पेन ड्राप स्ट्राइक पर जाने के लिए तैयार हैं।

अनुबंध अध्यापकों को जल्द किया जाए नियमित

राजकीय सीएंडवी अध्यापक संघ खंड पंचरुखी की कार्यकारिणी ने अनुबंध अध्यापकों का अनुबंध तीन साल की बजाय दो साल करने की सरकार से मांग की है। खंड प्रधान गुरदयाल कौंडल ने कहा सरकार ने बजट में कर्मचारी हितैषी होने का प्रमाण दिया है। सभी पीटीए, पैरा, एसएमसी अध्यापकों के मानदेय में वृद्धि का जिला व प्रदेश कार्यकारिणी स्वागत करती है। उन्होंने अनुबंध अध्यापकों को सरकार से नियमित करने की गुहार लगाई है। खंड प्रधान गुरदयाल कौंडल, महासचिव सुरेश कुमार, कोषाध्यक्ष आभा मन्हास, भूप सिंह, रूपाली शर्मा, रेणु शर्मा, पुनीत शास्त्री ने कर्मचारियों को राहत देने के लिए सरकार का आभार प्रकट किया है।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस