सुरेश कौशल, योल

अब विवाह पंजीकरण के लिए लोगों को कोर्ट या फिर दूर जाने के झंझट से छुटकारा मिलेगा। श्री चामुंडा मंदिर प्रशासन पहले नवरात्र से मंदिर परिसर में ही विवाह करने व पंजीकरण की सुविधा प्रदान करेगा। पंजीकरण करवाने के लिए दरें भी तय कर दी गई हैं।

सामान्य वर्ग के लिए 2100 तथा बीपीएल परिवारो को 100 रुपये देने होंगे। जो पुजारी विवाह की रस्में निभाएंगे, उन्हें न्यूनतम 501 रुपये देने का प्रावधान किया गया है। इसके लिए मंदिर प्रशासन रजिस्टर तैयार कर उसमें एंट्री कर पूरा ब्योरा दर्ज करेगा। इसके लिए मंदिर अधिकारी यानी तहसीलदार स्तर का अधिकारी अधिकृत किया है और वह ही प्रमाणपत्र जारी करेगा। पहले लोगों को विवाह का पंजीकरण करवाने के लिए एसडीएम कोर्ट जाना पड़ता था। अब ये प्रक्रियाएं मंदिर परिसर में ही आसानी से संपन्न होने से लोगों को राहत मिलेगी। न्यास सदस्य कैलाश ने बताया कि मंदिर में विवाह पंजीकरण के लिए काफी पहले से योजना बनाई जा रही थी। पहले नवरात्र से लोगों को यह सुविधा मिलनी शुरू हो जाएगी। मंदिर अधिकारी एवं तहसीलदार धर्मशाला अपूर्व शर्मा ने बताया कि सात अक्टूबर से पंजीकरण की प्रक्रिया शुरू की जाएगी।

Edited By: Jagran