सुरेश कौशल, योल

अब श्री चामुंडा के शिव मंदिर के दर्शन दूर से भी हो सकेंगे। 45 फीट ऊंचे गुंबद का निर्माण कार्य शुरू कर दिया है। इससे पहले यह करीब 18 फीट ऊंचा था। अनुमानित 1.14 करोड़ रुपये से शिव मंदिर के पुनर्निर्माण का कार्य लगभग पूरा हो चुका है। तकनीकी अड़चनों के कारण मार्बल बिछाने का कार्य लटक गया है। वर्ष 2016 में शिव मंदिर को गिराकर नया बनाने की कवायद शुरू की गई। आनन फानन में डिजाइन में बदलाव करने से कार्य लटका रहा। अब मंदिर की सूरत बदलने लगी है। किन्नौर के कारीगरों ने मंदिर के प्रवेश द्वार पर काष्ठकुणी शैली में नक्काशी कर मंदिर को नया रूप दिया है।

-------

शिव मंदिर का गुंबद ऊंचा होने से श्रद्धालु दूर से दर्शन कर सकेंगे। मंदिर परिसर में मार्बल बिछाने का कार्य जल्द पूरा करना जरूरी है।

-मनु सूद, मंदिर न्यासी शिव मंदिर के कार्य में तेजी लाने की जरूरत है, क्योंकि पांच साल से इसे गति नहीं मिली है। तकनीकी अड़चन है तो प्रशासन उचित कदम उठाए।

-कैलाश वालिया, मंदिर न्यासी श्री चामुंडा मंदिर में विकास कार्यों में तेजी लाने की जरूरत है। पांच साल से हिमानी चामुंडा व शिव मंदिर का काम धीमी गति से चल रहा है।

-राकेश चौधरी, पूर्व न्यास सदस्य

शिव मंदिर के गुंबद का कार्य शुरू हो गया है। मंदिर परिसर के अधूरे कार्य को भी जल्द पूरा किया जाए ताकि भक्तों को दर्शन करने में दिक्कत न हो।

-अनिल गौड़, मंदिर न्यासी शिव मंदिर के पुनर्निर्माण का कार्य लगभग पूरा हो चुका है। 45 फीट ऊंचे गुंबद का कार्य जारी है। तकनीकी अड़चन से अभी मार्बल नहीं बिछा है।

-शमशेर सिंह मिन्हास, सहायक अभियंता, मंदिर प्रशासन श्री चामुंडा मंदिर में शिव मंदिर के पुनर्निर्माण का कार्य जल्द पूरा करने के लिए संबंधित ठेकेदार को निर्देश जारी कर दिए हैं।

-डा. हरीश गज्जू, एसडीएम धर्मशाला

Edited By: Jagran