जागरण टीम, नूरपुर/पालमपुर : हिमाचल प्रदेश राजकीय महाविद्यालय प्राध्यापक संघ (एचजीसीटीए) के आह्वान पर नूरपुर व पालमपुर में बुधवार को भी प्राध्यापकों ने मांगों के समर्थन में आवाज बुलंद की। राजकीय आर्य कालेज नूरपुर की स्थानीय इकाई के सदस्यों ने उपाध्यक्ष प्रो. शशि वाला के नेतृत्व में एक घंटे की गेट मीटिग कर धरना दिया। उन्होंने यूजीसी के सातवें वेतनमान को जल्द लागू करने की मांग की है। अगर सरकार मांग पूरी नहीं करती है तो 30 मई के बाद पूरे प्रदेश में क्रमिक भूख हड़ताल शुरू की जाएगी।

इस अवसर पर डा. दिनेश कुमार शर्मा, डा. नीरा रश्मि, प्रो. सीमा ओहरी, डा. दिलजीत सिंह, डा. अनिल कुमार, प्रो. मनजीत सिंह, डा. सोहन धीमान, डा. चंचल शर्मा, प्रो. अल्का, प्रो. किरण बाला, प्रो. मुकेश, प्रो. पर्ल बख्शी, डा. यजुवेंद्र गिरी, प्रो. शिव कुमार, डा. सुरेश चौधरी, प्रो. भारती भागसेन, प्रो. रविद्र डोगरा, अंजना चौधरी व अन्य मौजूद रहे।

कृषि विश्वविद्यालय पालमपुर में हपौटा और वास्ता के बैनर तले अन्य महाविद्यालयों के प्राध्यापकों ने रोष रैली निकाली। कैप्टन विक्रम बतरा मैदान से शुरू रैली को एसडीएम कार्यालय परिसर में सीएम को ज्ञापन भेजने के बाद संपन्न किया गया। कालेज शिक्षक संघों के कार्यकारी सदस्य डा. उपाध्यय, डा. संजय जसरोटिया और पालमपुर डिग्री कालेज से अध्यक्ष डा. सुजीत सरोच, डा. निवेदिता परमार महासचिव, नूरपुर डिग्री कालेज से डा. पीएल भाटिया शामिल रहे। उन्होंने सातवां वेतनमान लागू न करने पर रोष जताया। उन्होंने कहा कि पेंशनभोगियों और गैर शिक्षकों ने पहले ही प्राध्यापकों के विरोध का समर्थन किया है। अब छात्र भी समर्थन के लिए आगे आ रहे हैं, क्योंकि परीक्षा के अलावा उनके शिक्षण को भी नुकसान हो रहा है।

Edited By: Jagran