मंडी, जागरण संवाददाता। डॉ. संजय गुलेरिया ने बताया वह कोविड केयर सेंटर छिपणू में कोरोना मरीजों के इलाज में तैनात थे। इसी बीच दादी बीमार हो गईं। उन्होंने दोस्तों को को सूचना दी। उन्होंने तुरंत दादी को अस्पताल पहुंचाया। कोरोना मरीजों के इलाज में तैनात डॉ. संजय गुलेरिया ने बताया वह समय उनके लिए निर्णायक था। कर्तव्य और पारिवारिक दायित्व निर्वहन के बीच परीक्षा की घड़ी थी। वहीं डॉ. पंकज कश्यप ने भी मरीजों के इलाज में बेहतर कार्य किया। मंगलवार को दैनिक जागरण ने दोनों चिकित्सकों को फूल देकर सम्मानित किया। इस मौके पर जिला आयुर्वेदिक अधिकारी डॉ. गोविंद राम शर्मा मौजूद रहे।

डॉ. गुलेरिया ने बताया उनके परिवार में माता-पिता, पत्नी, बेटा-बेटी और दादी हैं। दादी अधरंग की मरीज हैं। उन्होंने एकदम खाना पीना छोड़ दिया। घर से फोन आया, लेकिन ड्यूटी छोड़कर नहीं जा सकता था। इसकी सूचना दोस्तों को दी तो उन्होंने तुरंत दादी का उपचार करवाया। अब वह स्वस्थ हैं। बच्चों से भी वीडियो कॉल में ही बात होती थी।

वहीं, डॉ. पंकज कश्यप बताते हैं की उनका 14 लोगों का संयुक्त परिवार हैं। उनकी ड्यूटी जब कोविड केयर सेंटर में लगी तो सभी ने मेरा हौसला बढ़ाया। ड्यूटी के दौरान परिवार हमेशा मरीजों के बारे में हाल जानता और उनके काम की तारीफ करता। छिपणू में आए मरीज महाराष्ट्र दिल्ली से थे। उन्हें जब यहां लाया गया तो अधिकतर घबराए हुए थे लेकिन काउंसिलिंग के साथ ही बेहतर हो गए। उनको योग करवाया और काढ़ा ही मुहैया दिया जाता था। अधिकतर मरीज ठीक होकर गए।

जिला आयुर्वेदिक अधिकारी डॉ. गोविंद राम शर्मा ने बताया कि उपायुक्त मंडी, एडीएम मंडी व सीएमओ के बेहतर योगदान के कारण छिपणू में मरीजों को बेहतर सुविधाएं दी जा रही हैं। आयुर्वेद विभाग की ओर से तैयार काढ़ा ही मरीजों को खाली पेट दिया जाता है। डॉक्टरों और अन्य स्टाफ के सहयोग से मरीज भी यहां खुद को खुश महसूस करते हैं। उनकी हर इच्छा पूरी की जाती है।

Posted By: Rajesh Sharma

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस