मंडी, जागरण संवादददाता। डीएफओ जिला मुख्‍यालय मंडी  मुंशी राम की संदेहास्पद हालत में मौत हो गई। उनका शव बीबीएमबी के उपक्रम ब्यास सतलुज लिंक (बीएसएल) परियोजना के सुंदरनगर जलाशय से बरामद हुआ है। सुंदरनगर पुलिस ने शव अपने कब्जे में लेकर जांच शुरू कर दी है। 56 साल के मुंशी राम सुंदरनगर उपमंडल के कपाही के रहने वाले थे। उनका मंडी शहर में भी घर है। शुक्रवार सुबह वह सरकारी वाहन में चालक के साथ करीब साढ़े चार बजे घर से निकले थे।

वह डा. वाइएस परमार वानिकी विश्वविद्यालय नौणी (सोलन) गत दिनों आयोजित वनरक्षक भर्ती का परीक्षा परिणाम लाने जा रहे थे। पांच बजे के करीब वह सुंदरनगर के भोजपुर पहुंचे। वहां लघुशंका जाने के लिए चालक को वाहन रोकने के लिए कहा। वाहन से उतरने के बाद वह साथ लगते सुलभ शौचालय में चले गए। करीब एक घंटे तक वापस नहीं आए तो चालक ने उनके मोबाइल फोन पर काल की लेकिन कोई उत्तर नहीं मिला। इसके बाद चालक ने मुंशी राम के स्वजन को काल की। स्वजन ने बताया कि उनका स्वास्थ्य ठीक नहीं चल रहा है। चक्कर आने की शिकायत है। आसपास जाकर देख लो, चालक शौचालय के आसपास मुंशी राम को ढूंढता रहा लेकिन कोई वह नहीं मिले। इससे परेशान होकर चालक ने थाना सुंदरनगर को सूचित किया।

सूचना मिलने पर पुलिस मौके पर पहुंच गई,ऐसी बीच किसी ने पुलिस को सूचना दी कि बीएसएल जलाशय में शीशमहल के समीप किसी व्यक्ति का शव बह रहा है। पुलिस तुरंत वहां पहुंची। बीबीएमबी कर्मियों की मदद से शव को जलाशय से बाहर निकाला। ऐसी आशंका जताई जा रही है कि मुंशी राम ने अपनी बीमारी से परेशान होकर जलाशय में छलांग लगा आत्महत्या कर ली। हालांकि पुलिस अभी इस मामले में कुछ भी कहने को तैयार नहीं है। डीएसपी सुंदरनगर दिनेश कुमार ने डीएफओ मुख्यालय मंडी मुंशी राम का शव बीएसएल जलाशय से बरामद होने की पुष्टि की है।

Edited By: Richa Rana