केलंग, जेएनएन। बारालाचा दर्रे पर बर्फ पड़ने से मनाली-लेह मार्ग पर फिलहाल वाहनों की आवाजाही बंद हो गई है। हालांकि दर्रे में चार से पांच इंच ही बर्फ पड़ी है। लेकिन सड़क में बर्फ जम जाने से वाहनों की आवाजाही बंद कर दी गई है। लेह जाने वाले वाहन दारचा में, जबकि लेह से मनाली आ रहे वाहन फिलहाल सरचू में रुके हुए हैं। लाहुल स्पीति प्रशासन ने सरचू में स्थापित अस्थायी चौकी अक्टूबर के पहले सप्ताह में ही हटा ली थी, जबकि बर्फ़बारी होती देख दारचा से भी गत रविवार को अस्थायी पुलिस चौकी हटा ली गई है। बारालाचा जिंगजिंगबार व पतसेऊ की ओर चल रहा बीआरओ का कार्य भी बर्फ़बारी से प्रभावित हुआ है।

मौसम व ठंड बढ़ती देख अब बीआरओ भी बारालाचा से काम समेटने में जुट गया है। केलंग को जांस्कर घाटी से जोड़ने वाले शिंकुला दर्रे में भी पांच इंच से अधिक बर्फ़बारी हुई है, जिससे जांस्कर घाटी का लाहुल से संपर्क कट गया है। इस मार्ग पर भी धूप लगने के बाद ही बाद दोपहर वाहनों की आवाजाही शुरू हो सकती है।

सरचू सहित दारचा से अस्थायी चौकी हटा लेने के बाद अब वाहन चालकों को दारचा से लेह तक कोई सहारा नहीं रह गया है। हालांकि लाहुल-स्‍पीति प्रशासन का कहना है सेना के वाहनों की आवाजाही को देखते हुए पुलिस बीच बीच में सरचू तक के क्षेत्र में निगरानी रखेगी। लेकिन अब अचानक पड़ने वाली बर्फ कभी भी राहगीरों को दिक्कत में डाल सकती है। प्रशासन से भी अब लोगों से मौसम के हालात देखकर ही लेह मार्ग पर सफर करने की सलाह दी है। एसडीएम केलंग राजेश भंडारी ने कहा कि लेह मार्ग पर सफर करने वाले राहगीरों से मौसम देखकर ही सफर करने का आग्रह किया गया है।

रोहतांग दर्रे में बर्फ के फाहे गिरने से बढ़ सकती है चहल-पहल

कुल्लू मनाली आने वाले सैलानियों की पहली पसंद रहने वाले रोहतांग दर्रे में भी बर्फ के फाहे गिरने से रौनक लौटने की उम्मीद बढ़ी है। अटल टनल रोहतांग बनने के बाद यह दर्रा सैलानियों के बिना वीरान हो गया है। लेकिन अब बर्फ के फाहे गिरने का क्रम शुरू हो गया है, जिससे रौनक बढ़ने की उमीद जगी है।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस