जेएनएन, जसूर। धमेटा के तहत पौंग बांध के पास एक निजी होटल में आठ से 10 अज्ञात लोगों ने एक नेपाली मूल के व्यक्ति से उसकी गाड़ी छिन ली और उसे दो दिन तक बंधक बनाकर रखा। इस संबंध में पीड़ित ने वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक कांगड़ा को लिखित शिकायत भेजी है। शिकायतकर्ता उमेद स‍िंह पुत्र मुकूंद निवासी राजस्थान 12 साल से पौंग बांध विस्थापितों के कामों को लेकर हिमाचल आता रहता है।

पीड़ित ने कहा कि गत दिनों वह गाड़ी लेकर आया था और पौंग बांध के पास एक निजी होटल में ठहरा हुआ था। यहां होटल में कुछ अज्ञात लोगों ने उसकी गाड़ी छीन ली और दो दिन तक उसे बंधक बनाकर रखा और जान से मारने की धमकी भी दी। अज्ञात लोगों में कुछ ने पुलिस वर्दी पहनी हुई थी। गाड़ी के साथ आरोपितों ने पीड़ित का मोबाइल फोन व नकदी भी छीन ली। आरोपितों ने पीड़ित से एक एग्रीमेंट पर भी जबरन हस्ताक्षर करवाए लिए। पीड़ित ने बताया कि उसकी आंखों पर पट्टी बांधी गई थी व हाथ-पैर रस्सी से बांध के रखे गए थे।

इस कारण वह किसी भी व्यक्ति को नहीं पहचान सका है। वह किसी तरह जान बचाकर कंडवाल में अपने परिचितों के पास पहुंचा। उमेद स‍िंह ने आरोपितों के खिलाफ तुरंत कार्रवाई करने तथा उसकी गाड़ी तथा रकम वापस दिलाने की पुलिस से गुहार लगाई है। पुलिस थाना फतेहपुर प्रभारी सुरेश शर्मा के अनुसार उमेद ने कई लोगों से भूमि तथा मुरब्बे दिलाने के लिए लाखों रुपये लिए थे। अब वह तीन साल के बाद इस क्षेत्र में आया तो इन्हीं पीड़ित लोगों ने उसे दबोचकर रकम वापस लेने चाही होगी। इस संबंध में पुलिस ने मामला दर्ज कर छानबीन शुरू कर दी है।

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस