शिमला, जेएनएन। लॉकडाउन-4 के दौरान हिमाचल प्रदेश में जिले के अंदर बस सेवाएं आरंभ हो जाएंगी। पहले चरण में यह प्रयोग होगा। जिले में 50 फीसद सरकारी और 50 फीसद निजी बसें चलाई जाएंगी। इसके बाद ही दूसरे चरण में एक जिले से दूसरे जिले में बसें चलेंगी। अंतर राज्यीय रूटों पर कोई बसें अभी नहीं चलेंगी। इस बारे में बुधवार को मंत्रिमंडल की बैठक में गहन चर्चा की गई। हालांकि फैसला नहीं हुआ है।

लेकिन बसें कब से सड़कों पर दौडऩी आरंभ हो जाएंगी, इस पर अंतिम फैसला मुख्यमंत्री करेंगे। इसके लिए केंद्र सरकार की नई गाइडलाइन का भी इंतजार किया जा रहा है। इसके अनुसार ही लॉकडाउन के नियमों की पालना होगी। लेकिन 50 फीसद क्षमता पर निजी बस ऑपरेटर बसें चलाने को तैयार नहीं हैं। वे सरकार से नुकसान की भरपाई के लिए पैकेज देने की मांग कर रहे हैं। 

यह भी पढ़ें: रोहड़ू में पब्बर नदी पर 16 करोड़ की लागत से बन रहा पुल गिरा, दो साल से हो रहा था निर्माण कार्य

लॉकडाउन-4 में जिले के अंदर बसें चलाई जा सकती है। आधी बसें सरकारी होंगी और आधी निजी। ट्रांसपोर्ट को जिले के अंदर आरंभ करने के लिए केंद्र की नई गाइडलाइन को भी देखना होगा। बसें कब से चलानी है, इस पर सरकारी स्तर पर फैसला स्वयं मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर करेंगे। -सुरेश भारद्वाज, केबिनेट मंत्री।

सरकार का जो भी आदेश होगा, उसकी पालना की जाएगी, लेकिन 50 फीसद क्षमता पर हम बसें तभी चलाएंगे अगर सरकार हमें कंपसेट करेगी, कोई पैकेज देगी, अन्यथा हम घाटा सहन नहीं कर पाएंगे। रमेश कमल, महासचिव, निजी बस ऑपरेटर संघ।

Posted By: Rajesh Sharma

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस