धर्मशाला, जागरण संवाददाता। इस वर्ष आम  के उत्पादन में गिरावट दर्ज की गई है। हालांकि इस साल आन ईयर होने के कारण बागवानों को उम्मीद थी कि आम का उत्पादन अधिक होगा, लेकिन ऐसा नहीं हो सका है। आम का उत्पादन इस वर्ष कम से कम रहा है। आम का उत्पादन कम होने का कारण माना जा रहा है कि समय पर बारिश न होने के कारण नमी की कमी हो गई थी, जिस कारण आम का उत्पादन कम हुआ है।

उद्यान विभाग कांगड़ा ने इस बार करीब 23 हजार मीट्रिक टन आम की पैदावार की उम्मीद जताई थी, लेकिन इस वर्श 18015 मीट्रिक टन ही उत्पादन हुआ है। जानकारी के अुसार आम की पैदावार एक वर्ष काफी अधिक होती है, जिसे विभाग द्वारा आन इयर का नाम दिया है। लेकिन जिस वर्ष फस कम होती है उसे आफ एयर का नाम दिया जाता है। इस बार आन इयर होने के बावजूद भी फसल की पैदावार कम रही है।

यह बोले उपनिदेश बागवानी कमलशील नेगी

बागवानी विभाग के उपनिदेशक कमलशील नेगी ने बताया कि इस वर्ष आम का उत्पादन अधिक होने की संभावना थी, लेकिन जब फसल को पानी चाहिए था तब बारिश नहीं हुई है। नहीं की कमी के कारण उत्पादन कम हुआ है। 2022-23 में 215334 हैक्टेयर एरिया में 18015 मीट्रिक टन आम की पैदावार हुए है।

पहले इतना हुआ उत्पादन

वर्ष 2018-19 में 213992 हैक्टेयर में 16846 मीट्रिक टन उत्पदान हुआ है। 2019-20 में 21445 हैक्टेयर एरिया में 15287 मीट्रिक टन, 2020-21 में 21445 हैक्टेयर एरिया में 19524 मीट्रिक टन, 2021-22 में 21534 हैक्टेयर एरिया में 18015 मीट्रिक टन आम की पैदावार हुई है। पहले के मुकाबले उत्पादन कम हुआ है।

Edited By: Richa Rana

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट