रिकांगपिओ, जेएनएन। Kinnaur Landslide Updates, किन्नौर जिले की सांगला-छितकुल सड़क पर बटसेरी के पास भूस्खलन की जद में आने से नौ पर्यटकों की मौत के बाद सोमवार को पोस्‍टमार्टम के बाद उनके शव दिल्‍ली भिजवा दिए गए। जिला प्रशासन शव नई दिल्ली स्थित हिमाचल भवन भेज दिए हैं, जहां आवासीय आयुक्त इन शवों को परिवार को सौंपेंगा। उपायुक्त किन्नौर आबिद हुसैन सादिक ने बताया हादसे में मृतक नेवी के लेफ्टिनेंट अमोच बापत का शव कड़छम स्थित सेना के अधिकारियों को सौंपा गया है। स्वर्गीय अमोच बापत छत्तीसगढ़  से संबंधित थे। उन्होंने बताया छितकुल व बटसेरी में विभिन्न होटल व होम स्टे में इस समय करीब 50 से 60 पर्यटक ठहरे हुए हैं। पुल टूट जाने के बाद ये आवाजाही नहीं कर पा रहे हैं। हालांकि बताया जा रहा है कि इनका यहां लंबे समय तक ठहरने का कार्यक्रम है।

उपायुक्त किन्नौर ने बाहरी पर्यटकों को सांगला से छितकुल की ओर न जाने की अपील भी की है तथा  जिला प्रशासन की ओर से पहाड़ी में भूस्खलन होने के कारणों का पता व जांच करने के लिए जियोलॉजी सर्वे ऑफ इंडिया की टीम को भी बुलाया गया है। फिलहाल उपायुक्त किन्नौर को जब तक लोक निर्माण विभाग की ओर से रोड क्लीयरनेस नहीं मिलता है, तब तक पर्यटकों सहित अन्य सभी व्यक्तियों के लिए सड़क पूरी तरह से बंद रखा गया है।

उपायुक्त किन्नौर आबिद हुसैन सादिक ने कहा कि बटसेरी की पहाड़ी में भूस्खलन होने के कारण जांच करने के लिए जियोलॉजी सर्वे ऑफ इंडिया की चंडीगढ़ टीम किन्नौर के लिए रवाना हुई है। उन्होंने बताया कि इस समय छितकुल व करछम के विभिन्न होटल व होम स्टे में इस समय लगभग 50 से 60 पर्यटक हैं। वही किन्नौर जिले में अन्‍य राज्यों से पर्यटकों को सांगला से आगे छितकुल की ओर जाने से उपायुक्त ने मनाही की है।

हादसे में स्थानीय व्यक्ति समेत तीन लोग घायल हुए थे, जिन्हें उपचार के बाद छुट्टी दे दी गई। दिल्ली की टुअर एंड ट्रैवल कंपनी के माध्यम से ये लोग किन्नौर जिले में घूमने के लिए निकले थे। इनमें छत्तीसगढ़, महाराष्ट्र, राजस्थान, पंजाब व दिल्ली के पर्यटक शामिल थे।

रविवार दोपहर करीब एक बजे पहाड़ी से भूस्खलन होने लगा था। पहाड़ी से गिरे बड़े-बड़े पत्थरों और मलबे की चपेट में पर्यटकों का वाहन भी आ गया। वाहन में 11 लोग सवार थे। मृतकों में चार महिलाएं व पांच पुरुष शामिल हैं। सड़क से गुजर रहा एक स्थानीय व्यक्ति व दो पर्यटक घायल हुए हैं। भूस्खलन के कारण बास्पा नदी पर करोड़ों की लागत से बना लोहे का पुल भी टूट गया।

घटनास्थल से दूसरी तरफ खड़े लोगों ने पहाड़ी से पत्थर गिरते देख सड़क से निकल रहे लोगों को जोर-जोर से चिल्लाकर भागने के लिए कहा था। लेकिन यात्री वाहन के चालक को इसका पता नहीं चल पाया। पहाड़ी से जब पत्थर नीचे गिरने लगे तो किसी को बचाव का मौका नहीं मिला। मलबे के कारण यात्री वाहन सड़क से करीब 500 मीटर नीचे बुरी तरह क्षतिग्रस्त होकर दूसरी सड़क तक पहुंच गया। पांच पर्यटकों के शव वाहन के अंदर और आसपास ही थे, लेकिन चार लोगों के शव पहाड़ी पर छिटक गए थे, जिन्हें तलाश करने में बचाव दल को काफी मशक्कत करनी पड़ी।

बटसेरी में शनिवार को भी भूस्खलन हो रहा है। शनिवार को भी भूस्खलन के कारण एक वाहन क्षतिग्रस्त हो गया था, हालांकि पर्यटक बाल-बाल बच गए थे। सोमवार को भूस्‍खलन होने की सूचना है।

Edited By: Rajesh Kumar Sharma