ज्वालामुखी, जेएनएन। राज्य योजना बोर्ड के उपाध्यक्ष रमेश धवाला ने प्रदेश मंत्रिमंडल में जगह बनाने के लिए अपना पक्ष दिल्ली में वरिष्ठ नेता जेपी नड्डा के समक्ष रखा। उन्होंने नड्डा को बताया कि वर्ष 1998 में उनके वोट से ही कांग्रेस को गिराकर उन्होंने भाजपा की सरकार बनाई थी। वरिष्ठता के आधार पर भी वह सबसे वरिष्ठ नेता हैं। वह दो बार मंत्री व दो बार विधायक रह चुके हैं। ऐसे में उन्हें मान सम्मान मिलना चाहिए।

धर्मशाला के विधायक एवं खाद्य आपूर्ति मंत्री किशन कपूर के सांसद बनने से व मंडी सदर के विधायक अनिल शर्मा के मंत्री पद छोडऩे के बाद प्रदेश सरकार में दो मंत्री पद खाली हुए हैं। ऐसे में जयराम सरकार की ओर से दो विधायकों को मंत्री पद की जिम्मेवारी सौंपी जानी है। कांगड़ा से रमेश धवाला के अलावा नूरपुर के विधायक राकेश पठानिया भी मंत्री बनने की फेहरिस्त में शामिल हैं।

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Rajesh Sharma

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस