सोलन,जागरण संवाददाता। मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने कहा कि कांग्रेस पुरानी पेंशन (ओपीएस) के मामले में कर्मचारियों को गुमराह कर रही है। केंद्र सरकार के सहयोग के बिना ओपीएस लागू करना संभव ही नहीं है और केंद्र में 50 वर्ष तक कांग्रेस की सरकार नहीं बनने वाली। 2003 में पूर्व मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह देश के पहले मुख्यमंत्री थे, जिन्होंने कर्मचारियों की पेंशन बंद की थी। कांग्रेस अपने ही नेता के फैसले को नहीं मान रही है। कर्मचारियों के मामलों को हल करने के लिए सरकार ने मुख्य सचिव की अध्यक्षता में एक कमेटी गठित की है, जो यह विचार कर रही है कि ओपीएस की समस्या को कैसे हल किया जाए।

मुख्यमंत्री सोलन जिला के कंडाघाट में 'प्रगतिशील हिमाचल-स्थापना के 75 वर्षÓ समारोह को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि कांग्रेस चुनाव नजदीक देख ऐसी घोषणाएं कर रही है जो संभव ही नहीं है। कांग्रेस ने घोषणा की है कि वह सत्ता में आते ही 300 यूनिट बिजली निश्शुल्क देगी, जबकि भाजपा सरकार 125 यूनिट पहले ही दे रही है। इसके अलावा एक अन्य घोषणा कांग्रेस ने की है कि 18 से 60 वर्ष आयु की महिलाओं को 1500 रुपये भत्ता दिया जाएगा। हिमाचल में करीब 36 लाख आबादी महिलाओं की है। प्रदेश के ऐसे आर्थिक हालात नहीं हैं कि वह प्रत्येक माह 1500 रुपये दे सके।

जयराम ठाकुर ने कहा कि पंजाब के मुख्यमंत्री भगवंत मान से बात हुई थी। उन्होंने कहा था कि 1000 रुपये महिलाओं को देेने पर अभी विचार चल रहा है। प्रदेश कांग्रेस की कोई भी घोषणा जनता की समझ में नहीं आ रही है। कांग्रेस बोल रही है कि सत्ता में आते ही भाजपा सरकार के सभी फैसलों को बदल दिया जाएगा। क्या कांग्रेस सरकार हिम केयर योजना, गृहिणी सुविधा योजना, महिलाओं को निगम की बसों में आधा किराया, सब बंद कर देगी। उन्होंने कहा कि देश आजादी के 75 वर्ष मना रहा है और हिमाचल प्रदेश भी अपने अस्तित्व के 75 वर्ष मना रहा है।

Edited By: Neeraj Kumar Azad