संवाद सहयोगी, नगरोटा बगवां : हिमाचल परिवहन सेवानिवृत्त कर्मचारी कल्याण मंच ने सरकार को चेताया है कि मानसून सत्र से पूर्व यदि मंच की मांगें नहीं मानी तो विधानसभा का घेराव किया जाएगा। सम्मेलन प्रदेश अध्यक्ष बलरामपुरी की अध्यक्षता में शनिवार को नगरोटा बगवां में हुआ।

महासचिव वीर सिंह चौहान ने बताया कि पिछले चार साल में 13 सूत्रीय मांग पत्र के संबंध में मुख्यमंत्री, परिवहन मंत्री व निगम के अधिकारियों के साथ 30 बार मुलाकात एवं पत्राचार किया जा चुका है परंतु हर बार आश्वासनों के अतिरिक्त कुछ नहीं हुआ है। आरोप लगाया कि सरकार जो घोषणा करती है उसे अमलीजामा नहीं पहनाती है और इससे सेवानिवृत्त कर्मचारियों में रोष है। तर्क दिया कि समय पर पेंशन न मिलने से कठिनाइयों का सामना करना पड़ता है। सरकार व निगम प्रबंधन ने 250 करोड़ रुपये का भुगतान सेवानिवृत्त कर्मचारियों को नहीं किया है। उन्होंने बताया कि उनकी मुख्य मांगें पेंशन का स्थायी समाधान, वर्ष 2015 से 2019 तक महंगाई भत्ते का एरियर, डीए का भुगतान, अंतरिम राहत का एरियर, 2016 से वंचित लीव इन कैशमेंट, लंबित ग्रेच्युटी का भुगतान, पेंशन एरियर कंप्यूटेशन का भुगतान व 65-70 75 वर्ष की आयु पूरी कर चुके पेंशनरों को 5:10 15 प्रतिशत वेतन वृद्धि का लाभ देना शामिल हैं। बैठक में चमन पुंडीर, कुलदीप सिंह गुलेरिया, बृजलाल ठाकुर, दीवान चंद ठाकुर, बिहारी लाल ठाकुर, सुरेंद्र सिंह, कर्म सिंह, रमेश शर्मा, प्रेम लाल, राजेंद्र, अशोक शर्मा, अजमेर सिंह, कृपाल सिंह, किशोरी लाल, भीम सिंह, बलबीर चौधरी, अंबिका प्रसाद व अन्य ने भाग लिया।

................

विधायक अरुण मेहरा ने दिया आश्वासन

सम्मेलन में पहुंचे विधायक अरुण मेहरा ने सेवानिवृत्त कर्मचारियों को आश्वासन दिया कि उनकी मांगों को मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर के समक्ष उठाकर अमलीजामा पहनाने का प्रयास किया जाएगा। उन्होंने कहा कि सरकार सेवानिवृत्त कर्मचारियों के हितों के लिए वचनबद्ध है।

Edited By: Jagran