सरकाघाट, जेएनएन। हरियाणा के नीलोखेड़ी टोल प्लाजा पर कार्यरत कर्मचारियों ने हिमाचल पथ परिवहन निगम की बिलासपुर डिपो की लग्जरी बस के परिचालक व एक यात्री के साथ मारपीट की। परिचालक का कैश बैग छीन लिया गया। परिचालक व यात्रियों को एचआरटीसी के कर्मचारियों की लापरवाही का खामियाजा भुगतना पड़ा। इससे यात्री, चालक व परिचालक कई घंटे तक परेशान रहे।

बिलासपुर डिपो की लग्जरी बस रविवार रात दिल्ली से सरकाघाट आ रही थी। नीलोखेड़ी टोल प्लाजा से जब बस गुजरने लगी तो वहां तैनात कर्मचारियों ने टोल का पैसा न मिलने पर बस रोक दी। चालक ने बताया बस में फास्ट टैग लगा हुआ है। पैसे का भुगतान फास्ट टैग से हो गया है। टोल प्लाजा कर्मियों ने चालक को बताया कि फास्ट टैग से पैसा नहीं मिला है। पैसे का भुगतान करना होगा। इस बात को लेकर चालक से बहस हो गई।

टोल प्लाजा कर्मियों ने बस साइड में खड़ी करने को कहा। इस दौरान टोल प्लाजा कर्मी परिचालक से उलझ गए। उसके साथ मारपीट की, उसका कैश बैग छीन लिया। पूरे घटनाक्रम का वीडियो बना रहे एक यात्री का मोबाइल फोन छीन कर उसके साथ भी मारपीट की गई। विवाद बढ़ता देख बाद में परिचालक ने टोल टैक्स का नकद भुगतान किया। इससे अगले टोल प्लाजा पर जैसे बस खड़ी हुई तो वहां डिस्प्ले पर ब्लैकलिस्ट लिखा आया। वहां भी टोल का नकद भुगतान करना पड़ा।

सरकाघाट डिपो के क्षेत्रीय प्रबंधक नरेंद्र शर्मा का कहना है मामला उनके ध्यान में लाया गया है। निगम कर्मचारियों की सुरक्षा व्यवस्था को लेकर पूरी तरह सजग है। फास्ट टैग में पैसे नहीं डालने वाले कर्मचारी पर अनुशासनात्मक कार्रवाई की जाएगी।

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस