हमीरपुर, जेएनएन। हिमाचल राजकीय अध्यापक संघ एचजीटीयू ने टीजीटी से लेक्चरर (स्कूल न्यू) के पदों पर प्रमोशन के लिए पांच साल की रेगुलर टीजीटी सेवा शर्त को हटाकर इसे तीन वर्ष करने की मांग की है। संगठन ने पांच वर्षों की शर्त को शिक्षक हितों के विरुद्ध करार देते हुए इसे तुरंत निरस्त करने के लिए आवाज बुलंद की है। संगठन के जिलाध्यक्ष संजीव ठाकुर ने कहा टीजीटी काडर में तीन से चार साल कांट्रेक्ट की सेवा के कारण यह शर्त शिक्षकों की नियमित प्रमोशन के लिए सबसे बड़ी बाधक बनी हुई है।

सैकड़ों टीजीटी शिक्षक इस शर्त की वजह से प्रमोशन से वंचित हो रहे हैं, जबकि इस काडर का भारी बैकलॉग चला हुआ है। उन्होंने कहा किसी भी प्रमोशन के लिए रेगुलर सेवा अवधि की तीन वार्षिक गोपनीय रिपोर्ट्स की ही आवश्यकता होती है, इसलिए टीजीटी काडर से लेक्चरर स्कूल न्यू के पदों पर टीजीटी काडर में सेवारत टीजीटी की तीन वर्षीय सेवा अवधि को लागू किया जाना व्यापक जनहित में है।

उन्होंने कहा उनका संगठन इस मसले को लेकर शीघ्र ही प्रदेश सरकार से बात करेगा। उन्होंने कहा कि लैक्चरर काडर में भर्ती के लिए पचास प्रतिशत कोटा टीजीटी का है, जबकि इतनी ही भर्ती डायरेक्ट कोटे से होती है। कुछ समय से कांट्रेक्ट भर्ती होने के कारण प्रमोशन के लिए इंतज़ार की अवधि लंबी हो गई है और टीजीटी काडर का प्रमोशन बैकलॉग भी बढ़ गया है।

इस अवसर पर जिला महासचिव राजकुमार, नादौन के अध्यक्ष मनोज शर्मा, महासचिव नरेश पटियाल,शशि शर्मा, हमीरपुर खंड के प्रधान देविंदर सिंह, महासचिव अश्वनी कुमार, अजय पाल, भोरंज के अध्यक्ष अजय शर्मा, कमलजीत, राकेश कुमार, सुजानपुर के प्रधान अरुण शर्मा, महासचिव अविनाश ठाकुर, वित्त सचिव गगन कुमार, बड़सर से राजेंद्र प्रसाद, अजय शर्मा और सुनील भी मौजूद रहे।

Posted By: Rajesh Sharma

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस