शिमला, जागरण संवाददाता। Himachal Pradesh College Migration, हिमाचल प्रदेश विश्वविद्यालय शिमला ने नियमों में बदलाव करते हुए फैसला लिया है कि एक स्टेशन पर दूसरे कालेज में माइग्रेशन अब विद्यार्थी नहीं करवा सकेंगे। विश्वविद्यालय प्रशासन ने इसके लिए निर्देश जारी कर दिए हैं। प्रशासन की ओर से यह प्रस्ताव पहले कार्यकारी परिषद की बैठक में लाया गया था, वहां से स्वीकृति मिलने के बाद सोमवार को अधिसूचना जारी कर दी है। प्रदेश के एक ही स्टेशन पर दो से तीन कालेज होते हैं। ऐसे में विद्यार्थी एक कालेज में मेरिट के आधार पर दाखिला नहीं मिलने पर नजदीक के दूसरे कालेज में दाखिला ले लेते थे और समय के साथ पहले वाले कालेज में माइग्रेशन करवा लेते थे। विश्वविद्यालय प्रशासन ने सभी कालेजों में मेरिट के आधार पर दाखिले शुरू किए हैं, इसलिए स्थानीय स्तर पर माइग्रेशन को पूरी तरह से बंद करने का फैसला लिया है।

एचपीयू में हुई क्विज प्रतियोगिता

शिमला। हिमाचल प्रदेश विश्वविद्यालय (एचपीयू) शिमला में अर्थशास्त्र विभाग और राष्ट्रीय सांख्यिकीय कार्यालय ने आजादी के अमृत महोत्सव के मौके पर विश्वविद्यालय सभागार में विद्यार्थियों के लिए 'अन्वेषा 2022Ó क्विज प्रतियोगिता का आयोजन किया। इसमें प्रदेश विश्वविद्यालय और अन्य संस्थानों के कुल 72 विद्यार्थी और शोधार्थियों ने भाग लिया। सुबह साढ़े नौ बजे से प्रश्नोत्तरी प्रतियोगिता शुरू की गई। इसमें विभाग अध्यक्ष प्रो. मनोज शर्मा भी उपस्थित रहे। एचपीयू के प्रो. वीसी प्रो. ज्योति प्रकाश ने विद्यार्थियों को संबोधित किया। अल्ताफ हुसैन हाजी, उप महानिदेशक राष्ट्रीय सांख्यिकी कार्यालय ने बताया कि आजादी के अमृत महोत्सव के अवसर पर की गई इस अनूठी पहल के माध्यम से सरकार का उद्देश्य छात्रों के बीच सांख्यिकी के बारे में जागरूकता फैलाना और इससे जुड़े रोजगार के अवसरों की जानकारी प्रदान करना है।  आर्थिक सलाहकार विनोद कुमार राणा ने भी सभा को संबोधित किया। प्रतियोगिता के दौरान राष्ट्रीय सांख्यिकीय कार्यालय के स्टाफ ने नाटक भी प्रस्तुत किया।

Edited By: Rajesh Kumar Sharma