मंडी, जागरण संवाददाता। Himachal Pradesh News, जिला मंडी के सुंदरनगर उपमंडल में दो परिवारों के घरेलू विवाद ने तीन किशोरों को एक दूसरे की जान का दुश्मन बना दिया है। घर में उनके स्वजन आपस में उलझ रहे हैं तो स्कूल में तीनों। किशोरों की इस हरकत से अन्य बच्चों की पढ़ाई प्रभावित हो रही है। स्कूल प्रबंधन के लिए मामला सिरदर्द बन गया है। चाइल्ड हेल्पलाइन से होता हुआ मामला बाल कल्याण समिति (सीडब्ल्यूसी) तक पहुंच गया है। सीडब्ल्यूसी ने इस मामले को लेकर तीनों किशोरों के स्वजन को मंडी तलब किया था। उनका पक्ष जानने के बाद विशेषज्ञों से कई दौर की काउंसिलिंग भी करवाई गई। लेकिन कोई मानने को तैयार नहीं हुआ। पूरे प्रकरण के लिए एक -दूसरे को दोषी ठहराते रहे।

सीडब्ल्यूसी ने अब संबंधित स्कूल के प्रधानाचार्य को पत्र लिखकर पूरे मामले की रिपोर्ट मांगी है। इसके बाद सीडब्ल्यूसी आगामी कार्रवाई करेगी। मामला सुंदरनगर के एक स्कूल से जुड़ा हुआ है। दो किशोरों के स्वजन के बीच कई साल से किसी बात को लेकर विवाद चल रहा है। दोनों पड़ोसी हैं। विवाद के चलते अकसर लड़ाई झगड़ा होता रहता है। दोनों परिवारों के बच्चे स्कूल में एक ही कक्षा में पढ़ते हैं। एक पक्ष के दो किशोर दूसरे पक्ष के किशोर को आए दिन स्कूल में परेशान करते रहे हैं। इससे नौबत कई बार हाथापाई तक पहुंच गई। एक किशोर के स्वजन ने मामला स्कूल प्रबंधन के संज्ञान में भी लाया। लेकिन कोई समाधान नहीं हुआ। विवाद बढ़ता देख चाइल्ड हेल्पलाइन से शिकायत की। चाइल्डलाइन ने दोनों पक्षों की काउंसिलिंग कर विवाद सुलझाने का प्रयास किया, लेकिन सफलता नहीं मिली।

स्‍वजन की भी काउंस‍िलिंग की गई

बाल कल्याण समिति (अतिरिक्त प्रभार) अध्‍यक्ष रेखा शर्मा का कहना है मामला सीडब्ल्यूसी के ध्यान में लाया गया। स्वजन की काउंसिलिंग की गई, लेकिन नतीजा शून्य रहा। दोनों परिवार के सदस्यों की काउंसिलिंग की गई, लेकिन नतीजा कुछ नहीं लिया। संबंधित स्कूल के प्रधानाचार्य को पत्र लिख मामले से जुड़ी रिपोर्ट मांगी है।

Edited By: Rajesh Kumar Sharma