शिमला, जेएनएन। Himachal Statehood Day, हिमाचल प्रदेश पूर्ण राज्‍यत्‍व दिवस के 50 साल स्‍वर्णिम जयंती के रूप में मना रहा है। कार्यक्रम तय समय से थोड़ा देरी से शुरू हुआ। 11:28 बजे प्रदेश के राज्‍यपाल बंडारू दत्‍तात्रेय ने राष्‍ट्रीय ध्‍वजारोहण किया। इसके बाद उन्‍होंने परेड का निरीक्षण किया। कार्यक्रम में गृह मंत्री अमित शाह शामिल नहीं हुए। उनका वर्चुअली कार्यक्रम काे संबोधित करने का कार्यक्रम था। लेकिन किसी कारणवश वह कार्यक्रम से नहीं जुड़े। भारतीय जनता पार्टी के राष्‍ट्रीय अध्‍यक्ष जेपी नड्डा कार्यक्रम के व‍िशिष्‍ट अतिथि रहे। इसके अलावा मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर, केंद्रीय वित्‍त राज्‍य मंत्री अनुराग ठाकुर सहित प्रदेश सरकार के सभी मंत्री मौजूद रहे। राज्‍यपाल बंडारू दत्‍तात्रेय, मुख्‍यमंत्री जयराम ठाकुर, जेपी नड्डा, अनुराग ठाकुर सहित अन्‍य नेताओं ने इस मौके पर हिमाचल निर्माण में योगदान देने वाले पूर्व मुख्‍यमंत्रियों सहित अन्‍य के योगदान काे याद किया।

स्वर्णिम हिमाचल का आगाज कार्यक्रम के अध्यक्ष राज्यपाल बंडारु दत्तात्रेय द्वारा ध्वजारोहण के साथ हुआ और राष्ट्रगान गाया गया। इसके बाद राज्यपाल बंडारु दत्तात्रेय ने खुली जीप से परेड का निरीक्षण किया, जिसमें पुलिस अर्धसैनिक बल, एनसीसी व एनएसएस की टुकड‍ि़यां मौजूद थी। इस अवसर मास्क पहन कर पुलिस बल, अर्धसैनिक बल, एनसीसी और एनएसएस के जवानों द्वारा भव्य मार्च पास्ट पेश किया गया। परेड की कमान प्रणव चौहान के हाथ में रही।

पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की प्रतिमा पर पुष्पांजलि अर्पित की और इसके बाद राज्यपाल बंडारू दत्तात्रेय ने हिमाचल प्रदेश के स्वर्णिम पचास वर्षों को दर्शाती प्रदर्शनी का शुभारंभ किया। इस अवसर पर भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जगत प्रकाश नड्डा, मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर, केंद्रीय मंत्री अनुराग ठाकुर व अन्य मौजूद थे। इसमें नई राहें नई मंजिलों के तहत विकसित किए जाने वाले क्षेत्रों और जलक्रीड़ा आदि को दर्शाया गया है। लोक निर्माण विभाग, ग्रामीण विकास एवं पंचायती राज विभाग, जल शक्ति विभाग की प्रदर्शनियों का अवलोकन किया। पचास वर्षों के दौरान विकास के नए आयाम को दर्शाया गया है।

शहरी विकास मंत्री सुरेश भारद्वाज ने सभी अतिथियों का स्वागत किया और कहा कि हिमाचल विश्व में अपनी अलग पहचान रखता है और विकास की दृष्टि से हिमाचल ने बहुत ऊंचा मुकाम हासिल किया है। 1971 ने उन पलोें को याद किया जब तत्कालीन मुख्यमंत्री यशवंत सिंह परमार की मौजूदगी में पूर्ण राज्य का दर्जा मिला। उन्होंने कहा हिमाचल छोटी बड़ी रियासतों से मिलकर बना है और तत्कालीन केंद्रीय गृह मंत्री सरदार बल्लभ भाई पटेल को इसमें अमूल्य योगदान रहा है। उनकी इस विरासत और देश को एकजुट कर कश्मीर को भारत में पूरी तरह से मिलाने और धारा 370 को समाप्त कर एक विधान, एक संविधान, एक प्रधान और एक निशान को केद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने साकार किया है। सुरेश भरद्वाज ने 1971 के एक स्मरण को याद करते हुए कहा कि वह काॅलेज में पढ़ते थे और हिमाचल को पूर्ण राज्य का दर्जा मिलना था तो भारी बर्फबारी के बीच तत्कालीन पुलिस अधीक्षक शिमला रती राम वर्मा की खुली जीप में तत्कालीन मुख्यमंत्री डा. यश्यवंत सिंह परमार को देखने के लिए लोगों का हुजुम उमड़ पड़ा था। राज्यपाल बंडारू दत्तात्रेय व अन्यों ने स्‍वर्णिम हिमाचल पर डाक टिकट जारी किया और 31 जनवरी तक यह डाक टिकट बिक्री के लिए प्रदर्शनी में उपलब्ध रहेगा।

यह भी पढ़ें: Himachal Statehood Day: 651 रुपये से दो लाख प्रति व्‍यक्‍त‍ि आय तक पहुंचा हिमाचल, पर्यटन राज्‍य की ओर अग्रसर

यह भी पढ़ें:  Himachal Statehood Day: प्रदेश का सवा लाख युवा सेना में सेवारत, चार से 83 फीसद हुई साक्षरता दर