धर्मशाला, जेएनएन। प्रदेश के वरिष्ठ आइएएस अधिकारी प्रबोध सक्सेना के नाम पर लाखों रुपये मांगने वाले शातिर को पुलिस ने पश्‍िचम बंगाल से गिरफ्तार कर लिया है। शातिर ने बिजली बोर्ड चेयरमैन प्रबोध सक्‍सेना के नाम ठेकेदारों और इंजीनियराें से पैसों की उगाही की कोशिश की थी। लेकिन अधिकारियों की चालाकी से इसका पर्दाफाश हो गया था व कोई भी ठगी का शिकार होने से बच गया था।

आरोपित ने पश्‍िचम बंगाल में बैठकर इस वारदात को अंजाम दिया। बताया जा रहा है आरोपित सिम कार्ड बेचने का काम करता है। पुलिस फोन कॉल लोकेशन ट्रेस कर आरोपित तक पहुंचने में कामयाब हुई। आरोपित की पहचान राम कृष्‍ण मैती निवासी मैद‍िल डाकघर दिवर पौंडा, जिला पश्‍िचमी मैदिनीपुर पश्‍िचम बंगाल के रूप में हुई है। पुलिस आरोपित को पकड़कर हिमाचल ला रही है।

आरोपित वरिष्‍ठ आइएएस अधिकारी के रुतबे का गलत फायदा उठाने की फ‍िराक में था। शातिर ने बिजली बोर्ड के कई ठेकेदारों और अधिशाषी व सहायक अभियंता समेत अधीक्षण अभियंता तक को फोन कॉल कर पैसों की मांग की थी। शातिर ने फोन कॉल कर बिजली बोर्ड अध्‍यक्ष के आदेश का हवाला दिया और पैसा जमा करवाने की बात कही थी। बीते माह ठगी के प्रयास का यह मामला सामने आया था। अधिकारियों की चालाकी व सूझबूझ से बड़ी ठगी की वारदात टल गई थी।

पुलिस अब आरोपित से कड़ी पूछताछ करेगी व अधिकारी समेत ठेकेदारों के नंबर उसे कहां से मिले, यह जांच का विषय होगा। इस मामले के तार पश्‍िचम बंगाल ही नहीं, कहीं न कहीं से हिमाचल प्रदेश्‍ा से भी जुड़े हो सकते हैं। पुलिस विभााग की ओर से मामले की गहनता से जांच की जाएगी।

इस नंबर से आई थी फोन कॉल

उस दौरान धर्मशाला में विधानसभा का शीतकालीन सत्र चल रहा था। सत्र के दौरान पैसे की मांग अधिकारी को कुछ अटपटी लगी। जांच की तो पता चला प्रबोध सक्सेना के नाम पर कोई गिरोह चूना लगाने की कोशिश कर रहा है। 7718215543 मोबाइल नंबर से कॉल आई थी। बिजली बोर्ड के सुंदरनगर मंडल के अधिशाषी अभियंता विकास शर्मा ने यह बात अपने उच्च अधिकारियों के संज्ञान में लाते हुए पुलिस थाना बीएसएल कॉलोनी में प्रबोध सक्सेना के नाम पर पैसे मांगने वाले अज्ञात आरोपितों के विरुद्ध शिकायत दर्ज करवाई थी।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस