पालमपुर, संवाद सहयोगी। Himachal Sixth Pay Commission, भाजपा प्रदेश कार्यसमिति के सदस्य एवं भारतीय राज्य पेंशनर्स महासंघ के वरिष्ठ उपाध्यक्ष घनश्याम शर्मा ने पंजाब सरकार की ओर से छठे वेतनमान को लागू करने व प्रदेश सरकार में इसे अपने कर्मचारियों तथा पेंशनर्स को पंजाब के आधार पर देने की प्रतिबद्धता का स्वागत किया है। साथ ही सरकार का आभार व्यक्त किया है। उन्होंने कहा कि सरकार पहले से ही कर्मचारियों एवं पेंशनर्स को छठे वेतनमान को लागू करने के लिए वचनबद्ध थी। इसी कारण सरकार ने अपने बजट में पहले से ही इसका प्रावधान किया था। भाजपा सरकार प्रदेश के कर्मचारियों तथा पेंशनर्स की हमेशा हितैषी रही है और अपने हरेक  कार्यकाल में कर्मचारियों तथा पेंशनर्स को करोड़ों रुपये के लाभ प्रदान किए हैं।

प्रदेश के कर्मचारियों तथा पेंशनर्स की समस्याओं को देखते हुए सरकार ने समय-समय पर अंतरिम राहत जारी कर इनकी समस्या का समाधान करने की कोशिश की है, ताकि कर्मचारी अपने आप को सुरक्षित महसूस करें। उन्होंने इस मौके पर प्रदेश के कर्मचारियों तथा पेंशनर्स को बधाई देते हुए कहा कि छठा वेतनमान मिलने में देरी हुई है लेकिन इसमें प्रदेश सरकार की कोई गलती नहीं है क्योंकि प्रदेश के कर्मचारी पंजाब वेतन आयोग से प्रतिबंधित हैं। अतः जब पंजाब सरकार अपना वेतनमान जारी करती है। उसके उपरांत ही हिमाचल सरकार द्वारा वेतनमान जारी किया जाता है।

उन्होंने कहा कि उक्त वेतनमान जनवरी 2016 से लागू होना था। लेकिन पंजाब वेतन आयोग की रिपोर्ट देरी से आने के कारण इसे 2021 में 1-1-2026 से लागू किया जाएगा। उन्‍होंने कर्मचारियों एवं पेंशनर्स को पिछली अवधि के एरियर भुगतान  पंजाब के कर्मचारियों के आधार पर देने की मांग की है।

छठे वेतनमान का लाभ मिलने की उम्मीद

घनश्याम शर्मा ने कहा कि सरकार हमेशा कर्मचारियों की हितैषी रही है और इस बार भी कर्मचारियों एवं पेंशनर्स को छठे वेतनमान का लाभ प्रदान करने में कोई विलंब नहीं करेगी। उन्होंने पुनः छठे वेतनमान जारी होने पर प्रदेश के कर्मचारियों तथा पेंशनर्स को अपनी ओर से हार्दिक बधाई देते हुए कहा कि सरकार की योजनाओं को जन-जन तक पहुंचाने में अपना अहम योगदान जारी रखें व कारोना काल में खुद भी सुरक्षित रहें तथा अन्य को भी सुरक्षित रहने के लिए सचेत करें।

Edited By: Rajesh Kumar Sharma