शिमला,राज्य ब्यूरो। केंद्रीय वाणिज्य एवं उद्योग मंत्री पीयूष गोयल ने हिमाचल प्रदेश के आर्थिक विकास पर उद्योग जगत के हितधारकों, निवेशकों और व्यापारिक घरानों के संचालकों के साथ शिमला से शुक्रवार को संवाद सत्र को संबोधित किया। उन्होंने कहा किया हिमाचल निवेशकों के लिए उत्कृष्ट केंद्र है, इसके लिए राज्य सरकार के प्रयास सराहनीय हैं। सांसद एवं प्रदेश भाजपा अध्यक्ष सुरेश कश्यप, मुख्य सचिव राम सुभाग सिंह, अतिरिक्त मुख्य सचिव जेसी शर्मा और निदेशक उद्योग राकेश प्रजापति भी बैठक में उपस्थित थे।

   उद्योगपतियों ने पीयूष गोयल के समक्ष विचार रखे

वर्धन समूह के सचित जैन, बीबीएनआईए के अध्यक्ष संजय खुराना, सुनील तनेजा, ड्रग मेन्युफैक्चर्स एसोसिएशन के राजेश गुप्ता, सीआइआइ हिमाचल चैप्टर के अध्यक्ष शैलेश अग्रवाल, मोरपेन लेब्स लिमिटेड के संजय सूरी, ग्रीनलैंड इंडस्ट्रीज के मनोज शर्मा व आशीष, हाइडल सैक्टर के आरके वर्मा, स्टार्ट क्राफ्ट के विपिन गर्ग व राहुल सहित राजीव शर्मा और राजीव अग्रवाल ने इस अवसर पर केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल के समक्ष अपने विचार रखे। निवेशकों ने प्रदेश के औद्योगिक क्षेत्रों में अधोसंरचना को और सुदृढ़ बनाने की आवश्यकता पर बल दिया। राज्य में एपीआइ निगरानी कोष्ठ स्थापित करने की भी पैरवी की।

प्रदेश में निवेशक मित्र तंत्र: जयराम

मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर का कहना है कि हिमाचल प्रदेश में निवेशक मित्र पारिस्थितिक तंत्र है और निवेशकों के साथ बेहतर औद्योगिक संबंध स्थापित हैं। व्यापार में सुगमता की दिशा में भी हिमाचल देश के अग्रणी राज्यों में शामिल है। प्रदेश सरकार हिमाचल को देश के निवेश केंद्र के रूप में विकसित करने की दिशा में तेजी से आगे बढ़ रही है। 15 हजार करोड़ की दूसरी ग्राउंड ब्रेङ्क्षकग सेरेमनी के लिए तैयार हैं। सरकार राज्य के लिए चिकित्सा उपकरण पार्क स्वीकृत करवाने में सफल रही है। जिससे राज्य में औद्योगिक विकास को व्यापक स्तर पर प्रोत्साहन मिलेगा।

औद्योगिक विकास जारी रहेगा: बिक्रम

उद्योग मंत्री बिक्रम सिंह ठाकुर ने कहा कि राज्य सरकार ने औद्योगिक घरानों और निवेशकों के साथ हमेशा मधुर संबंध बनाए रखे हैं। राज्य में निवेश के लिए उपयुक्त वातावरण है जो यहां निवेशकों को आकर्षित करता है। वर्ष 2017 में शुरू की गई औद्योगिक विकास योजना को 2022 के बाद भी जारी रखा जाना चाहिए।

 

Edited By: Neeraj Kumar Azad