शिमला, जागरण संवाददाता। Yoga in Govt Schools, सरकारी स्कूलों के विद्यार्थी अब आनलाइन पढ़ाई के साथ योग क्रियाएं भी सीखेंगे। कोरोना की तीसरी लहर के संभावित खतरे को देखते हुए शिक्षा विभाग ने हिम तत्पर शिक्षा के साथ योग कार्यक्रम शुरू किया है। आर्ट आफ लिविंग संस्था के साथ मिलकर इस कार्यक्रम को शुरू किया गया है। शिक्षा मंत्री गोविंद सिंह ठाकुर ने शनिवार को इसका शुभारंभ किया। कार्यक्रम में आर्ट आफ लिविंग संस्था के संस्थापक व अध्यात्मिक गुरु श्रीश्री रविशंकर वर्चुअल माध्यम से जुड़े। उन्होंने कहा कि जिस तरह दांतों की सफाई जरूरी है इसी तरह मेंटल यानी मानसिक सफाई भी जरूरी है। उन्होंने कहा कि कोरोना से लडऩे के लिए योग से शरीरिक व मानसिक रूप से शक्ति मिलती है। इससे रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाया जा सकता है।

आर्ट आफ लिविंग संस्था के योग प्रशिक्षक स्कूल शिक्षकों को योग की क्रियाएं सीखाएंगे। शिक्षकों को मास्टर ट्रेनर बनाया जाएगा।  दसवीं से जमा दो कक्षाओं के लिए स्कूलों में ही योग की कक्षाएं लगाई जाएंगी। योग कक्षाओं को अनिवार्य करने के बजाय वैकल्पिक तौर पर रखा गया है। हर घर पाठशाला कार्यक्रम के तहत बच्चों को वाट्सएप के जरिये भी योग क्रियाओं के वीडियो भेजे जाएंगे। इस कार्यक्रम में प्रतिदिन आधे घंटे का योग कार्यक्रम होगा, ताकि रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाया जा सके। इसके अलावा शिक्षकों के लिए आनलाइन माध्यम से योग, प्राणायाम और ध्यान लगाना सिखाया जाएगा।

Edited By: Rajesh Kumar Sharma