शिमला, जेएनएन। शिक्षा विभाग में चतुर्थ श्रेणी से पदोन्नत हुए कई बाबू (क्लर्क) टाइप टेस्ट में फेल हो गए हैं। इन क्लर्कों की तादाद 14 है। इनके अलावा दो ही क्लर्क पास हो पाए हैं। फेल हुए कर्मचारियों को अब सालाना वेतनवृद्धि नहीं मिलेगी। इससे इन्हें 300 से 400 रुपये का नुकसान होगा। ये वे कर्मचारी हैं जिन्हें 10 फीसद कोटे के तहत चपरासी से पदोन्नत किया गया था। पहले ये चपरासी थे और इन पर वित्त विभाग के वर्ष 2009 के निर्देश लागू होते हैं। ये कर्मचारी वित्त विभाग के निर्देश पूरे नहीं कर पाए।

इन निर्देशों के अनुसार ऐसे कर्मियों को वेतनवृद्धि पाने और अगली पदोन्नति के लिए टाइप टेस्ट पास करना जरूरी होता है। इसके लिए कई मौके दिए जाते हैं। इस संबंध में शिक्षा निदेशक (उच्चतर शिक्षा) डॉ. अमरजीत कुमार शर्मा ने कार्यालय आदेश जारी किए हैं। इनके मुताबिक राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक स्कूल जरोल (कुल्लू) में क्लर्क लाल ङ्क्षसह और राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक स्कूल सौर (सोलन) में क्लर्क कमल चंद ने टाइप टेस्ट पास किया है। ये दोनों तीन फीसद वेतनवृद्धि मिलने के हकदार हो गए हैं।

Posted By: Rajesh Sharma

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस