भावानगर/रिकांगपिओ, संवाद सहयोगी। Kinnaur Landslide, हिमाचल प्रदेश के जिला किन्नौर में निगुलसरी में राष्ट्रीय राजमार्ग पांच पर पहाड़ दरकने से हुए हादसे में 10 लोगों की मौत हुई है जबकि घायल हुए 13 लोगों को बचा लिया गया है। घायलों को सामुदायिक स्‍वास्‍थ्‍य केंद्र भावानगर भेजा गया है जबकि एक कार आंशिक रूप से और दूसरी पूरी तरह क्षतिग्रस्‍त हो गई है। पहाड़ी से दरके मलबे की चपेट में सवारियों से भरी एक बस भी आ गई है। बताया जा रहा है बस में 24 यात्री सवार थे। मलबे में 60 से अधिक लोग दबे बताए जा रहे हैं।

रात करीब 8:30 बजे किन्नौर के लिए जाने वाली सड़क से मलबा साफ कर दिया। अभी यातायात बहाल नहीं किया गया है। तीन छोटे वाहन व टिप्पर मिल गए हैैं जबकि बस और बोलेरो नहीं मिली। माना जा रहा है कि यह दोनों वाहन मलबे के साथ सतलुज नदी में जा गिरे हैैं। जिला प्रशासन समेत अन्‍य अधिकारी मौके पर डटे हैं। एनडीआरएफ समेत सीआरपीएफ व आइटीबीपी की टीमों ने राहत कार्य जारी रखा है।

एनडीआरएफ टीम ने 13 लोगों को रेस्‍क्‍यू किया है। 10 लोगों के शव बरामद किए गए हैं। बताया जा रहा है चार लोग खुद जख्‍मी हालत में मलबे से बाहर निकलकर सड़क तक पहुंच गए। बचाव कार्य जारी है, लेकिन रुक रुककर मलबा गिरने से बचाव कार्य प्रभावित हो रहा है। आइटीबीपी के प्रवक्ता विवेक पांडेय के मुताबिक हादसे में करीब 60 लोगों के फंसे होने की आशंका है।

हादसे में इन लोगों ने गंवाई जान

रोहित निवासी रामपुर, मीरा देवी (41) निवासी ननस्पो (किन्नौर), नितिशा सुंगरा (किन्नौर), कमलेश कुमार निवासी पीपलूघाट अर्की (सोलन), राधिका निवासी काफनू (किन्नौर), प्रेम कुमारी निवासी लाबरंग (किन्नौर), ज्ञानदासी निवासी सापनी (किन्नौर), वंशिका निवासी सापनी (किन्नौर), देवी चंद निवासी प्लींगी (किन्नौर), विजय कुमार निवासी जोल सुजानपुर (हमीरपुर)।

ये लोग हुए हादसे में घायल

प्रशांत निवासी देहलां (ऊना), वरुण मैनन देहलां (ऊना), राजेंद्र टिक्कर सुजानपुर (हमीरपुर), दौलत निवासी पानवी (किन्नौर), चरणजीत सिंह निवासी सरहिंद (पंजाब), महेंद्र पाल चालक एचआरटीसी, गुलाब सिंह परिचालक एचआरटीसी, सवीण (नेपाल), जापति देवी निवासी बोंडा (शिमला), चंदज्ञान निवासी पूह (किन्नौर), अरुण निवासी बोंडा (शिमला), अनिल निवासी कालजंग स्कीबा।

मुख्यमंत्री आज करेंगे घटनास्थल का दौरा

मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर वीरवार को किन्नौर में घटनास्थल का दौरा करेंगे। सुबह ही उनका रवाना होने का कार्यक्रम है। पहले मुख्यमंत्री ने बुधवार शाम को जाना था, लेकिन धुंध के कारण हेलीकाप्टर उड़ान नहीं भर सका। वह शिमला से ही किन्नौर के उपायुक्त व पुलिस अधीक्षक से रिपोर्ट ले रहे हैं।

पीएम मोदी व अमित शाम ने की जयराम ठाकुर से बात

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने किन्‍नौर हादसे के बाद मुख्‍यमंत्री जयराम ठाकुर से बात कर स्थिति की जानकारी ली है। पीएम मोदी ने बचाव अभियान में हर संभव मदद देने का आश्‍वसासन दिया है। गृह मंत्री अमित शाह ने कहा किन्‍नौर हादसे के बाद आटीबीपी के डीजी से बात की है व टीमें राहत व बचाव कार्य में जुट गई हैं। गृह मंत्री ने मुख्‍यमंत्री जयराम ठाकुर से बात की है। भाजपा के राष्‍ट्रीय अध्‍यक्ष जगत प्रकाश नड्डा ने भी इस हादसे पर दुख जताया है।

डीएसपी भावानगर राजू के मुताबिक रिकांगपिओ से हरिद्वार जा रही हिमाचल पथ परिवहन निगम की बस का चालक ही बचा है। बाकी सब मलब में दबे हुए हैं। परिचालक के मुताबिक बस में 24 यात्री सवार थे। बताया जा रहा है बस समेत एक ट्रक व पांच से छह छोटी गाडि़यां भी मलबे की चपेट में आई हैं। पहाड़ी से काफी देर तक मलबा गिरता रहा।

घटनास्थल के दोनों तरफ अभी भी पत्थर और मलबा गिर रहा है। सड़क पर भारी मलबा गिरने के कारण प्रशासन व बचाव दल को मौके पर पहुंचने के लिए काफी मशक्‍कत करनी पड़ी।

सरकार ने भेजा मदद के लिए चौपर

मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने सदन में अवगत करवाया कि किन्नौर में एक हादसा हो गया है। जिसमें राहत कार्य करने के लिए एनडीआरएफ, आइटीबीपी, सीआरपीएफ की टीमें मौके पर पहुंच चुकी हैं। स्थानीय प्रशासन को भी रेस्क्यू ऑपरेशन के लिए लगाया गया है। मुख्यमंत्री ने यह भी बताया कि केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह का फोन आया था उन्होंने भी हर संभव मदद करने का आश्वासन दिया है। चट्टानों के नीचे दबी बस से लोगों को सुरक्षित निकालने के प्रयास किए जा रहे हैं। मुख्यमंत्री ने आश्वस्त किया कि सरकार चौपर भी भेज रही है, ताकि इस घटना में फंसे लोगों को सुरक्षित निकाल कर उन्हें इलाज के लिए अस्पताल तक लाया जा सके।

बीते दिनों में भी किन्‍नौर में पहाड़ी से भारी भूस्‍खलन हुआ था, जिसमें पर्यटकों का वाहन मलबे की चपेट में आ गया था व नौ लोगों की मौत हो गई थी। अब एक बार फ‍िर से बड़े हादसे ने पूरे हिमाचल को झकझोर कर रख दिया है।

किन्‍नौर हिमाचल प्रदेश का जनजातीय जिला है। किन्नौर के निगुलसरी के समीप चील जंगल में यह हादसा हुआ है। भूस्खलन की चपेट में चार से पांच गाड़ियाें सहित एक हिमाचल पथ परिवहन निगम की बस आई है। निगम की बस मुरंग से हरिद्वार की ओर जा रही थी। पहाड़ी से हुए भूस्खलन की गिरफ्त में आने से नदी में समा जाने की आशंका लगाई जा रही है।

यह भी पढ़ें: चार साल पहले हुए कोटरोपी हादसे के जख्‍म हरे कर गया किन्‍नौर हादसा, 48 लोगों की गई थी जान

यह भी पढ़ें: Landslide In Himachal: जाते जाते हर साल हिमाचल को गहरे जख्म देता है मानसून, अगस्‍त में हुए ये बड़े हादसे

Edited By: Rajesh Kumar Sharma