संवाद सहयोगी, पालमपुर : स्वास्थ्य मंत्री विपिन परमार ने कहा कि गंभीर बीमारियों से ग्रस्त जरूरतमंद लोगों को उपचार में सहायता प्रदान करने के लिए मुख्यमंत्री चिकित्सा सहायता कोष का गठन किया गया है। कोष के माध्यम से सरकारी अस्पतालों, पीजीआइ चंडीगढ़, मेडिकल कॉलेज चंडीगढ़, एम्स दिल्ली सहित आयुष्मान भारत योजना के अंतर्गत पंजीकृत अस्पतालों में आर्थिक सहायता प्रदान की जा सकेगी।

यह बात स्वास्थ्य मंत्री ने वीरवार को ननाओं में समस्याएं सुनने के बाद कही। स्वास्थ्य मंत्री ने ननाओं में करीब 200 समस्याएं सुनी व अधिकतर का मौके पर ही निपटारा कर दिया तथा शेष समस्याओं के समाधान के लिए संबंधित विभाग के अधिकारियों को निर्देश दिए। विभागीय अधिकारियों को निर्देश देते हुए उन्होंने कहा कि समस्याओं से संबंधित कोई आवेदन आए तो उस पर समयबद्ध निपटारा कर उन्हें भी अवगत करवाएं। उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार वर्तमान व भविष्य की जरूरतों को ध्यान में रखते हुए योजनाबद्ध तरीके से विकास कार्यों को गति प्रदान कर रही है। इस दौरान स्वास्थ्य मंत्री ने मुख्यमंत्री कन्यादान योजना के तहत तीन लाभार्थियों को 1.20 लाख के चेक भी वितरित किए।

इस मौके पर राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक पाठशाला दैहण के अध्यापकों ने स्कूल में वाणिज्य संकाय शुरू करने के लिए स्वास्थ्य मंत्री का आभार प्रकट किया। वहीं सुलह व परौर क्षेत्र से आए अनेक प्रतिनिधिमंडलों ने भी मुलाकात की। खैरा निवासी 80 वर्षीय शीला देवी ने भी पेंशन लगने पर आभार प्रकट किया। इस मौके पर मंडल अध्यक्ष कै. देसराज शर्मा, तनु भारती, एसडीएम धीरा संजीव कुमार, एसडीएम पालमपुर पंकज शर्मा, रमेश परिहार मौजूद रहे।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप