योल, सुरेश कौशल। पंचायतें युवा पीढ़ी को खेल के प्रति रुचि प्रदान करने के लिए सरकार हर गांव में मैदान बनाने की योजना को धरातल पर उतारने के लिए हर संभव प्रयास कर रही है। लेकिन कुछ गांव ऐसे हैं जहां मैदान तो है लेकिन उचित रखरखाव तथा समय रहते मरम्मत न होने से बदहाल होते जा रहे हैं। ऐसा ही कुछ टंग नरवाना पंचायत का मामला सामने आया है। यहां करीब 50 साल पहले मेरा मैदान का जीर्णोद्धार किया गया था। 2008 में स्टेज का निर्माण किया गया। यहां प्राचीन तालेश्वर महादेव मंदिर भी है। लेकिन सही व्यवस्था न होने ओर चारों ओर ताबंदी न होने की वजह से मौजूदा समय में मेला मैदान टैक्सी पार्किंग स्थल बन कर रह गया है। पंचायत को इस मैदान को सुधारने के लिए ठोस कदम उठाने चाहिए।

यह बोले ग्रामीण व जनप्रतिनिधि

शशि पंडित ने कहा कि मेला मैदान एक पौराणिक ओर ऐतिहासिक महत्व भी रखता है। यहां तालेगश्वर महादेव मंदिर के साथ साथ पिछले 50 वर्षों से छिंज मेला का आयोजन हो रहा है। मैदान को सुधारने के लिए पंचायत को ठोस कदम उठाने चाहिए। पूर्व प्रधान सुरेंद्र चौधरी इस मैदान के समीप दो स्कूलो की खेल प्रतियोगिताओं का भी आयोजन किया जाता है । मैदान को पहले समतल बनाया गया था । लेकिन बजट की कमी से आगे का कार्य नही हो पाया। वार्ड पंच पंकज कुमार ने कहा कि पूर्व पंचायतों ने गेट तो बना दिया। लेकिन तारबंदी न होने की वजह से मैदान बदहाल हो चुका है। मंदिर चारों ओर बाढ़ बंदी की होती तो मैदान ठीक ही रहता।

यह बोले पंचायत प्रधान टंग नरवाणा

टंग नरवाणा पंचायत प्रदान संतोष कुमार पंचायत स्तर पर मेला मैदान को सुधारने के लिए हर संभव प्रयास किए जा रहे हैं। गेट तथा तारबंदी के लिए बजट का प्रावधान किया जा रहा है।

Edited By: Richa Rana