शिमला, राज्य ब्यूरो। Governor Security Himachal, हिमाचल प्रदेश विधानसभा के मुख्य गेट पर राज्यपाल बंडारू दत्तात्रेय से हुई बदसुलूकी मामले से पुलिस प्रशासन ने बड़ा सबक लिया है। अब राज्यपाल की सुरक्षा व्यवस्था और कड़ी होगी। मौजूदा व्यवस्था में बदलाव किया गया है। राज्यपाल के साथ क्लोज प्रोटेक्शन टीम तैनात होगी। इनकी सुरक्षा में चूक होने की कोई गुंजाइश नहीं रहेगी। सुरक्षा में पेशेवर कमांडो तैनात होंगे। वर्तमान पीएसओ प्रणाली बदलेगी। इस संबंध में रविवार को डीजीपी संजय कुंडू, सीआइडी प्रमुख एडीजीपी एन वेणुगोपाल, आइजी इंटेलीजेंस सीआइडी दलजीत ठाकुर, आइजी साउथ रेंज हिमांशु मिश्रा ने राजभवन में राज्यपाल से मुलाकात की।

इस अवसर पर डीजीपी संजय कुंडू ने राज्यपाल को हुई असुविधा पर दुख व्यक्त करते हुए कहा कि यह अप्रत्याशित और दुर्भाग्यपूर्ण था। उन्होंने कहा कि राज्य के पहले नागरिक होने के रूप में, पुलिस प्रशासन ने अतिरिक्त सावधानी बरतने और राज्यपाल को उनके भविष्य में होने वाले कार्यक्रमों में उच्चस्तरीय सुरक्षा व्यवस्था प्रदान करने का निर्णय लिया है। उन्हें प्रोफेशनल एडवाइज दी जाएगी और उनके लिए रोड क्लीयरिंग सिस्टम तैयार किया जाएगा।

वर्तमान में राज्यपाल के कार्यक्रमों के दौरान केवल एक सुरक्षा अधिकारी तैनात रहता है लेकिन अब व्यवस्था को बदला जाएगा और क्लोज प्रोटेक्शन टीम तैनात की जाएगी, जिसमें अधिक पेशेवर पुलिस कमांडो होंगे और वर्तमान पीएसओ व्यवस्था को बदल दिया जाएगा। पुलिस महानिदेशक ने कहा कि पुलिस प्रशासन राजभवन में भी डीएसपी सुरक्षा सुविधा उपलब्ध करवाने का प्रयास करेगा।

यह होगा बदलाव

डीजीपी के मुताबिक राज्यपाल को महत्वपूर्ण और बड़े कार्यक्रमों में अग्रिम सुरक्षा प्रदान की जाएगी। ऐसे कार्यक्रमों में प्रयास किए जाएंगे कि राज्यपाल के दोनों एडीसी साथ हों। किसी भी विपरित स्थिति में राज्यपाल की सुरक्षा में तैनात अधिकारी बैकअप के लिए कॉल कर सकता है।

विधानसभा उपाध्यक्ष ने राज्यपाल को  कार्रवाई से अवगत करवाया

विधानसभा उपाध्यक्ष हंसराज ने शनिवार को राज्यपाल को विधायकों के खिलाफ की कार्रवाई से अवगत करवाया। उन्होंने विपक्ष के सदस्यों द्वारा किए व्यवहार पर चिन्ता व्यक्त की।

Indian T20 League

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

kumbh-mela-2021