शिमला, जेएनएन। मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने कहा कोरोना महामारी के कारण गरीब से लेकर अमीर हर व्यक्ति प्रभावित हुआ। ऐसी स्थिति में नरेंद्र मोदी ने प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्‍न योजना को शुरू किया और साथ ही कोरोना से बचाव के लिए प्रबंध किए। हिमाचल को मोदी बहुत करीब रखते हैं। सड़क संपर्क और हर घर तक नल पहुंचाने के लिए सरकार पूरी तरह से प्रयासरत है। प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्‍न योजना को तीन महीने तक चलाने की योजना थी और कोविड-19 के कारण इसे इतने लंबे तक चलाया जा रहा है और आगे भी जारी रहेगी। 80 करोड़ लोगों को इससे देश में लाभ हो रहा है, इससे बढ़कर पुण्य का और कोई काम नहीं हो सकता।

मोदी से पूर्व जितने प्रधानमंत्री आए लोगों की चिंता नहीं की। प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना के तहत छह हजार रुपये सीधे खाते में आ रहे हें, बिचौलियों का कोई हाथ नहीं रहा। कार्यक्रम के दौरान केंद्रीय मंत्री ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के यूनाइटेड नेशन में  संबोधन को सुनने का भी आह्वान किया। इस दौरान दस लाभार्थियों को 10-10 किलो चावल प्रदान किए गए।

खाद्य आपूर्ति मंत्री राजेंद्र गर्ग ने प्रधानमंत्री गरीब कल्‍याण अ‍न्‍न योजना के लाभार्थियों से केंद्रीय मंत्री के संवाद के दौरान कहा प्रदेश में 5000 स्थानों पर इसका सीधा प्रसारण किया गया। उन्‍होंने पंडित दीनदयाल उपाध्याय के दिए गए योगदान को याद किया। उन्‍होंने कहा हिमाचल उपभोक्‍त प्रदेश है खाद्यान्‍न के लिए अन्‍य प्रदेशों पर निर्भर रहना पड़ता है। केंद्र सरकार के निर्णय का आभार जताया। केंद्र सरकार की तरफ से हिमाचल के लिए प्रतिवर्ष करीब 10000 मीट्रिक टन गेहूं तथा सात हजार मीट्रिक टन चावल प्रतिवर्ष उपलब्ध करवाए जा रहे हैं। जिससे यहां के लोगों को न्यूनतम दरों पर राशन उपलब्ध करवाया जा रहा है।

हिमाचल प्रदेश में 17000 मीट्रिक टन आटा और 9000 मीट्रिक टन चावल लोगों को उपलब्ध करवाया जा रहा है। इस राशन से 73 लाख की आबादी को सुविधा उपलब्ध करवाई जा रही है। प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्‍न योजना के तहत 29 लाख लोगों को मुफ्त राशन उपलब्ध करवाया जा रहा है। मंत्री ने कहा आंखों को स्कैन कर जल्द ही डिपो में राशन उपलब्ध करवाया जाएगा।

Edited By: Rajesh Kumar Sharma