सोलन/बद्दी, जागरण टीम। Fake Pharma Industry, जिला सोलन के औद्योगिक क्षेत्र बद्दी में एक माह के भीतर दूसरे फर्जी फार्मा उद्योग का रहस्योद्घाटन हुआ है। उद्योग से उच्च रक्तचाप की दवा टेलमा-एच व प्रिंटेड फायल भी बरामद किए हैं। राज्य दवा नियंत्रक की टीम ने वीरवार देर शाम उद्योग पर कार्रवाई की। पुलिस में मामला दर्ज करवा दिया है।

राज्य दवा नियंत्रक विभाग की टीम बद्दी के थाणा गांव स्थित अलाइम फार्मूलेशन उद्योग पर नजर रख रही थी। पुख्ता जानकारी के बाद वीरवार को दवा नियंत्रक लवली ठाकुर ने राज्य दवा नियंत्रक को सूचना दी कि उद्योग में फूड लाइसेंस पर एलोपैथी दवाओं का उत्पादन किया जा रहा है। राज्य दवा नियंत्रक ने निरीक्षक लवली ठाकुर, अनूप शर्मा, सुरेश कुमार, रजत व अक्षय की जांच टीम गठित की। वीरवार शाम को टीम ने उद्योग में छापा मारा है। अंदर 10 कर्मचारी थे, जबकि उद्योग का मालिक गिरि राज तोमर वहां नहीं था, जब उसे पूछताछ के लिए बुलाया तो वह नहीं आया। टीम ने मौके से टेलमा-एच की 301 टेबलेट बरामद की। उद्योग में पैकिंग मैटिरियल पर ग्लेनमार्क फार्मा कंपनी का नाम लिखा था। साथ ही दवा उत्पादन की मशीनें थीं। राज्य दवा नियंत्रक नवनीत मरवाह ने बताया कि उद्योग के बाद एलोपैथी दवाओं के उत्पादन का लाइसेंस नहीं था। उद्योग परिसर व मशीनरी को सील किया जाएगा।

दो सितंबर को धर्मपुर में सील किया था उद्योग

इससे पहले राज्य दवा नियंत्रक ने दो सितंबर को बद्दी के समीप धर्मपुर में भी बिना लाइसेंस दवा उत्पादन पर आर्या फार्मा उद्योग को सील किया था। उद्योग से करीब 80 हजार से अधिक विभिन्न टेबलेट बरामद की थीं। उद्योग का मालिक लुधियाना का रहने वाला है। वह धर्मपुर में फूड लाइसेंस के आधार पर दवाओं का उत्पादन कर रहा था। इस उद्योग से अन्य फार्मा कंपनियों के नाम से दवाओं का उत्पादन किया जा रहा था। राज्य दवा नियंत्रक नवनीत मरवाह ने बताया कि इस उद्योग के खिलाफ जांच चल रही है। दवाओं के सैंपल की रिपोर्ट अभी नहीं आई है।

Edited By: Virender Kumar