नालागढ़, संवाद सूत्र। उपमंडल प्रशासन की ओर से प्रतिबंध के बावजूद नालागढ़ के पीरस्थान लोहड़ी मेले में जुट रही भीड़ पर प्रशासन ने सख्त रुख अपनाया है। रविवार सुबह नौ बजे तक मेला स्थल खाली करने के आदेश जारी किए हैं। प्रशासन का कहना है कि मेला स्थल खाली करवाने के लिए एनडीआरएफ व पुलिस को आदेश दिए हैं। कार्रवाई के लिए यदि अधिक पुलिस जवानों की जरूरत पड़ी तो उन्हें बुलाया जाएगा। वहीं प्रशासन ने मेला आयोजकों पर भी कार्रवाई करने की बात कही है।

लोहड़ी पर्व पर बद्दी-नालागढ़ नेशनल हाईवे किनारे पीरस्थान में मेले पर प्रशासन द्वारा इस बार भी प्रतिबंध लगाया गया है। बावजूद इसके 13 जनवरी से सजने वाले मेले में भारी भीड़ जुट रही है। प्रशासन को इसकी शिकायत मिली थी। एसडीएम नालागढ़ महेंद्र पाल गुर्जर ने कहा कि प्रतिबंध के बावजूद जुटने वाली भीड़ को लेकर मेला स्थल खाली करने के लिए एनडीआरएफ, पुलिस सहित प्रशासनिक टीम को कहा गया है।

प्रशासन ने एक सप्ताह पहले मेले पर रोक लगाने के आदेश देते हुए सिर्फ कोरोना नियमों का पालन करते हुए माथा टेकने की अनुमति दी थी। शुक्रवार को एसडीएम नालागढ़ महेंद्र पाल ने नालागढ़ के नायब तहसीलदार आशा राम को मेला ड्यूटी मजिस्ट्रेट नियुक्त किया था। तहसीलदार नालागढ़ ऋषभ शर्मा ने बताया कि दो से तीन बार निरीक्षण किया गया। मेले में दुकानों व झूलों को हटाने के लिए कह दिया है।

पड़ोसी राज्यों से पहुंचे लोग

शनिवार को पीरस्थान मेले में हिमाचल के साथ पड़ोसी राज्यों से सैकड़ों लोग पहुंचे। ये लोग गाडिय़ों, ट्रकों व ट्रैक्टरों में सवार थे। वहीं ऐसे में नेशनल हाईवे पर जाम की समस्या भी देखने को मिली। हालांकि, ट्रैफिक पुलिस भी मौके पर मौजूद रही।

कैसे थमेगा संक्रमण

रोक के बाद भी इतने बड़े मेले का आयोजन होना कई सवाल खड़े कर रहा है। वहीं, देर रात तक भी जगह-जगह दुकानें खुल रही हैं। ऐसे में कोरोना संक्रमण की चेन तोडऩे में कैसे सफलता मिलेगी।

Edited By: Neeraj Kumar Azad