शिमला, जेएनएन। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता पूर्व मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह ने श्री गुरु नानक देव जी की जयंती पर शिमला कार्ट रोड स्थित गुरुद्वारा में शीश नवाया। वीरभद्र सिंह ने पहली बार ग्लोबल इन्वेस्टर्स मीट पर टिप्‍पणी की। उन्‍होंने इन्‍वेस्‍टर्स मीट को भीड़ करार दिया है। पूर्व सीएम वीरभद्र सिंह ने कहा निवेशकों को आमंत्रित करके भीड़ इकट्ठी करने से प्रदेश में निवेश नहीं आएगा, बल्कि प्रदेश में निवेश लाने के लिए सरकार को जमीनी स्तर पर काम करना होगा, जो सरकार अभी तक नहीं कर पाई है।

वीरभद्र ने गुरुद्वारा में शीश नवाने के बाद कहा कि धर्म का पथ हमें जोड़ता है न कि तोड़ता है। उन्होंने कहा आपसी भाई चारे को मजबूत करना ही सच्चा धर्म है और हमें इसका आदर करना चाहिए। वीरभद्र सिंह ने कहा कि वह हर साल इस गुरुद्वारा में प्रकटोत्सव पर यहां आते रहे हैं। यहां आने पर उनके मन को जो शांति मिलती है, उसका वर्णन नहीं किया जा सकता। यह स्थान प्रेम और श्रद्धा का गुरु का द्वार है जहां हमें सदैव आनंद और शांति की प्राप्ति होती है।

वीरभद्र सिंह ने गुरुद्वारा में नतमस्तक होते हुए सिखपंथ को अपनी ओर से बधाई एवं शुभकामनाएं देते हुए सभी के जीवन में सुख, समृद्धि एवं शांति की प्रार्थना की। इस अवसर पर उनकी पत्नी पूर्व सांसद प्रतिभा सिंह, कांग्रेस नेता अमित नंदा, हरिकृष्ण हिमराल, व्यापार मंडल के अध्यक्ष इंद्र जीत सिंह व अन्य नेता मौजूद रहे। इससे पूर्व गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी ने वीरभद्र सिंह को सम्मान स्वरूप एक तलवार व सिरोपा भेंट किया।

Posted By: Rajesh Sharma

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप