धर्मशाला, जेएनएन। थाची में महिला चिकित्‍सक से छेड़छाड़ के के विरोध में बुधवार को प्रदेशभर के अस्‍पतालों में डॉक्‍टरों ने दो घंटे की पेन डाउन स्‍ट्राइक की। इस दौरान चिकित्‍सकों ने ओपीडी में सेवाएं नहीं दीं, इस कारण मरीजों को काफी परेशानी का सामान करना पड़ा। हालांकि, मरीजों को आपातकालीन सेवाएं मिलती रहीं।

इससे पहले मंगलवार को मंडी जिले के चिकित्सकों ने ही दो घंटे की हड़ताल की थी। चिकित्‍सक संघ का कहना है थाची में महिला डॉक्टर के साथ छेड़छाड़ हुई है, जिसका वे विरोध करते हैं। सुबह साढे़ नौ से साढ़े 11 बजे तक चिकित्‍सक ओपीडी में नहीं गए, इस कारण मरीजों को परेशानी झेलनी पड़ी। घरोह निवासी बुजुर्ग महिला पुण्‍या देवी चेकअप करवाने आई थीं, लेकिन थक हारकर ओपीडी के बाहर लगे बेंच पर सो गईं। नरवाणा से राजेश कुमार पत्‍नी सहित बुखार से तप रहे बच्‍चे को दवा लेने आए थे। लेकिन ओपीडी बंद होने के कारण फर्श पर ही बैठ गए। अस्‍पताल में मरीजों की भीड़ लगी थी और बेंच व कुर्सियां फुल हो गए थे।

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Rajesh Sharma

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप