शिमला, राज्‍य ब्‍यूरो। राज्यपाल द्वारा सदन में प्रस्तुत अभिभाषण पर विधायक डा राजीव बिंदल ने धन्यावाद प्रस्ताव पेश करते हुए कहा कि सरकार ने इसे छापने में कंजूसी की है विकास के जो कार्य किए उन्हें शामिल करते तो इतना और छापा जा सकता था।

राज्यपाल के साथ किए गए दुर्व्यवहार ने शर्मसार किया और आजतक के इतिहास में ऐसी घटना नहीं हुई। विपक्ष के अधिकतर विधायक इसमें शामिल नहीं होना चाहते थे पर भावनाओं में शामिल करवाया।  राज्यपाल ने सदन में जो व्याख्यान दिया है, वह सत्य पर आधारित है, झूठ का पुलिंदा नहीं है।

सरकार ने कोराना काल में भी विकास की रफृतार नहीं थमने दी। हर वर्ग को राहत पहुंचा कर विकास के आयाम स्थापित किए। कोराना काल में प्रदेश के किसानों के खाते में दो दो हजार रुपये की चार किश्तें डाली, और लगभग 9 लाख किसानों के खातों मं 1170 करोड हिमाचल डाले गए। गौ सेवा के लिए अभ्यारण्य बनाने से सिरमौर बेसाहरा पुश मुक्त हो चुका है और सोलन जिला भी जल्द बेसहारा पशुओं से मुक्त हो जाएगा। सरकार की विकास योजनाओं को रखा।

मुख्य सचेतक नरेंद्र बरागटा ने कहा कि विपक्ष राजभवन  जाकर राज्यपाल से माफी मांगे और राज्यपाल के माफ करने पर हम भी  मुख्यमंत्री से आग्रह करेंगे गें कि बडा दिल दिखाकर उन्हे माफ कर दें जिससे सदन की कार्यवाही  बेहतर चल सके। कोविड काल में भी मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने विकास को रुकने नहीं दिया। कोविड से निपटने के लिए मुख्यमंत्री ने हर तैयारी की स्वंय माॅनीटरिंग की तथा उसके परिणाम आज सभी के सामने है।

अभी तक 211 जनमंच हुए हैं जिसमें 47 हज़ार शिकायतों का निपटारा किया। कांग्रेस ऐसे आंदोलन कर रही है, जिसमें नृत्य कर किसानों की मृत्यु पर श्रदांजलि दी जा रही है। किसान रेल से प्रदेश के किसानों को लाभ मिलेगा और सेब सड़ेगा नहीं। उन्‍हाेंने सरकार की विकास योजनाएं गिनाई। विधानसभा सत्र को बुधवार 11 बजे तक स्थगित किया गया है।

Indian T20 League

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

kumbh-mela-2021