मंडी, जागरण संवाददाता। मनाली-चंडीगढ़ राष्ट्रीय राजमार्ग पर मंडी से झीड़ी के बीच रात को किसी भी तरह के वाहनों की आवाजाही नहीं होगी। जिला प्रशासन ने रात आठ बजे से सुबह छह बजे तक वाहनों की आवाजाही पर रोक लगा दी है। रात को मंडी-कमांद-कटौला-बजौरा वैकल्पिक मार्ग से ही वाहनों की आवाजाही होगी। इस मार्ग से भी छोटे वाहन ही जा सकेंगे। ट्रक, टिप्पर समेत अन्य भारी मालवाहक नहीं जा सकेंगे।

राष्ट्रीय राजमार्ग पर पहाडिय़ां दरकने से बार-बार भूस्खलन हो रहा है। इससे मंडी से कुल्लू के बीच राष्ट्रीय राजमार्ग दिन में कई बार बाधित रहा है। भूस्खलन की चपेट में आने से कई वाहन क्षतिग्रस्त हो चुके हैं। शुक्रवार रात को भी सात मील में भूस्खलन की चपेट में तीन वाहन आ गए। तीनों के चालक घायल हुए हैं। कई लोगों ने भागकर जान बचाई है। मलबा इतना ज्यादा था कि शनिवार को दो पोकलेन की मदद से पांच घंटे बाद राष्ट्रीय राजमार्ग बहाल हो पाया। सैकड़ों लोगों को 14 घंटे भूखे-प्यासे रहना पड़ा।

भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण (एनएचएआइ) ने जिला प्रशासन को सूचित किया है कि लगातार बारिश से पांच मील, सात मील समेत अन्य कई स्थानों पर लगातार भूस्खलन हो रहा है। बड़ी-बड़ी चट्टानें गिरने से रात को इस मार्ग पर आवाजाही से जान को खतरा हो सकता है। इसके बाद एसडीएम मंडी ने भी शनिवार को राष्ट्रीय राजमार्ग का निरीक्षण किया। उनकी रिपोर्ट के बाद उपायुक्त मंडी अङ्क्षरदम चौधरी ने रात को राष्ट्रीय राजमार्ग पर वाहनों की आवाजाही पर रोक के आदेश जारी कर दिए हैं। उपायुक्त कुल्लू आशुतोष गर्ग ने भी ऐसे आदेश जारी किए हैं। कुल्लू में बजौरा व मंडी में पुलिस ने नाके लगा दिए हैं। वाहनों को वैकल्पिक मार्ग से भेजा जा रहा है।

Edited By: Vijay Bhushan