धर्मशाला, जागरण संवाददाता। दो दिनों तक हुई झमाझम बारिश ने किसानों को परेशानी में डाल दिया है। खेतों में काटकर रखी फसल बारिश में भीग गई है। हालांकि धौलाधार बर्फ से पूरी तरह से चमक उठा है। ताजा बर्फबारी होने से जहां पहाड़ फिर से बर्फ से गुलजार हो गए हैं, वहीं ठंडक भी बढ़ गई है। गर्मियां तेज हो जाने से पहाड़ी की बर्फ तेजी से पिघल गई थी और पहाड़ बर्फ से महरूम हो गए थे। लेकिन मौसम ने करवट बदली और फिर से पहाड़ बर्फ से गुलजार हो गए हैं। इसके साथ झमाझम बारिश उन फसलों के लिए फायदेमंद रही है, जहां पर पानी की आवश्यकता थी। लेकिन जिन किसानों की गेहूं पककर तैयार है और कुछ किसान गेहूं को काटने के काम में जुटे थे, उन्हें परेशानी भी झेलनी पड़ी है। दस-12 दिन पहले ही कई जगहों पर इस बार गेहूं पककर तैयार हो गई है।

किसानों ने झेला मुकसान

कांगड़ा जिला के भीतरी क्षेत्र नगरोटा सूरियां व देहरा खंड के गांव बिलासपुर, सकरी, कटोरा, भटोली फकोरियां, बंगोली, हरिपुर, बासा, धंगढ़, त्रिपल झक्लेढ़, खैरियां गुलेर, बरियाल, जलरियां, नंदपुर भटोली कथौली, सुकनाड़ा में गेहूं की फसल की कटाई चल रही है। लेकिन मौसम ने ऐसी करवट ली कि दो दिन शुक्रवार व शनिवार को हुई बारिश ने गेहूं भिगो दिया। यही हाल इंदौरा व पंजाब से सटे क्षेत्रों का है, जहां पर गेहूं की कटाई काम काम तेज गति से चल रहा था, वहां पर भी गेहूं की फसल भीग गई है।

किसानों ने प्रशासन से लगाई राहत की गुहार

जिला के किसान देशराज, बलदेव सिंह ,अनूप सिंह, संजू, करनैल सिंह, शशिपाल, पिंका, कृष्ण कुमार, अजय, बिलू, भूपिंदर, बब्बू, गुरदेव सिंह, पूर्ण सिह ने सरकार व प्रशासन से इस बेमौसमी बारिश के दौर में फसलों का निरीक्षण कर नुक्सान की भरपाई करने की गुहार लगाई है।

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप