कांगड़ा, संवाद सूत्र। हिमाचल प्रदेश विश्वविद्यालय शिमला द्वारा घोषित बीएससी अंतिम वर्ष के परीक्षा परिणाम में एमसीएम डीएवी महाविद्यालय कांगडा के छात्र गौरव कौंडल ने विश्वविद्यालय में आठवां स्थान प्राप्त कर महाविद्यालय के नाम में चार चांद लगा दिए हैं। महाविद्यालय के प्राचार्य डा. बलजीत सिंह पटियाल ने गौरव कौंडल को सम्मानित किया और आशीर्वाद देते हुए उसके उज्ज्वल भविष्य की भी कामना की।

डॉ बलजीत सिंह पटियाल ने विशेष बातचीत में बताया कि डीएवी महाविद्यालय ने हमेशा से ही अपना मुख्य ध्येय रखा है कि छात्रों को गुणवत्तायुक्त शिक्षा प्रदान की जाए और हमेशा से ही हमारे इस महाविद्यालय के छात्र विश्वविद्यालय परीक्षा परिणामों में अपनी क्षमता का लोहा मनवा चुके हैं तथा इसी क्रम में गौरव कौंडल ने भी इस महाविद्यालय को गौरवान्वित किया है। इसके साथ ही प्राचार्य ने कहा कि गौरव की यह उपलब्धि अन्य छात्रों के लिए भी प्रेरणास्रोत है और इससे अन्य छात्र भी शिक्षा के क्षेत्र में ओर अधिक मेहनत करने के लिए प्रेरित होंगे ।

गौरव कौंडल ने अपनी इस सफलता का श्रेय अपने माता-पिता एवं गुरुजनों को दिया है जिनकी अनुकंपा से यह उपलब्धि प्राप्त हुई है। डीएवी कालेज कांगड़ा शिक्षा के क्षेत्र में अपना काफी नाम भी कमा चुका है। गौरव का सपना आइएएस अफसर बनना है, जिसके के लिए वह कडी मेहनत भी कर रहें हैं। कांगड़ा जिले की झियोल पंचायत के रहने वाले गौरव पिता पंचायत इंस्पेक्टर हैं और माता मीनाक्षी गृहणी हैं। महाविद्यालय में गौरव को यह स्थान प्राप्त करने पर महाविद्यालय के प्राचार्य डा. बलजीत सिंह पटियाल द्वारा स्मृति चिन्ह देकर सम्मानित किया गया है। उन्होंने आशा व्यक्त की है कि भविष्य में भी कालेज के छात्र अपना बेहतर परिणाम देकर महाविद्यालय का नाम रोशन करेंगे।

Edited By: Richa Rana

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट