संवाद सहयोगी, कांगड़ा : शक्तिपीठ श्री बज्रेश्वरी देवी मंदिर में नवमीं पर आस्था का सैलाब उमड़ा। मंदिर में व्यवस्था बनाए रखने के लिए उपमंडल प्रशासन को अतिरिक्त पुलिसकर्मियों को तीन बार भेजना पड़ा। भीड़ के कारण जेबकतरों द्वारा जेब काटने व मोबाइल फोन चोरी होने की कई शिकायतें पुलिस को मिली हैं। नवमीं पर 50 हजार से अधिक श्रद्धालुओं ने मां बज्रेश्वरी देवी के चरणों में शीश नवाया। देर सायं तक श्रद्धालुओं की कतारें मंदिर में लगी रहीं।

वरिष्ठ पुजारी पंडित राम प्रसाद शर्मा ने बताया कि नवमीं पर श्रद्धालुओं की भीड़ ने पिछले सभी रिकार्ड तोड़ दिए हैं। भीड़ उमड़ने पर मंदिर सहायक आयुक्त एवं एसडीएम कांगड़ा अभिषेक वर्मा व डीएसपी सुनील राणा भी दोपहर के समय मंदिर में व्यवस्था देखने के पहुंचे। अष्टमी पर हुए हादसे के बाद मंदिर प्रशासन सतर्क हो गया था। भीड़ के कारण 24 से अधिक बच्चे अभिभावकों से बिछुड़ गए। मंदिर प्रशासन की ओर से बार-बार अनाउंसमेंट करने पर अभिभावक बच्चों को लेने पहुंचे।

श्रद्धालु को बचाने वाले पुजारियों का नाम राज्यस्तरीय पुरस्कार के लिए भेजा जाएगा

मंदिर सहायक आयुक्त एवं एसडीएम अभिषेक वर्मा ने बताया कि अष्टमी पर हवन कुंड में गिरे श्रद्धालु को बाहर निकालने वाले पुजारियों का नाम राज्यस्तरीय पुरस्कार के लिए भेजा जाएगा। मंदिर अधिकारी दलजीत शर्मा को रिपोर्ट तैयार करने के लिए कहा है कि किन पुजारियों ने श्रद्धालु को बचाया है। दैनिक जागरण ने वीरवार को समाचार प्रकाशित कर श्रद्धालु को बचाने वाले पुजारियों को सम्मानित करने का आग्रह किया था। दैनिक जागरण ने इन पुजारियों के नाम भी प्रकाशित किए थे।

Edited By: Jagran