शिमला, जेएनएन। हिमाचल में तब्लीगी जमात के संपर्क में आए लोगों की पहचान करने की मुहिम जारी है। पुलिस ने पिछले चौबीस घंटे के दौरान 58 आैर लोगों की पहचान की है। अब तक मरकज से लौटे 333 तब्लीगियों के संपर्क में आए 351 लोगों को क्वारंटाइन पर रखा गया है। डीजीपी एसआर मरडी ने कहा प्रदेश में तब्लीगी जमात से जुड़े 21 लोग कोरोना पॉजिटिव हैं। ये सभी लोग उपचाराधीन हैं।

डीजीपी ने कहा कुछ राज्यों में सरकारी अधिकारी वाहनों का दुरुपयोग कर रहे हैं। वे इसमें बच्चों को घुमाने ले जा रहे हैं। उन्होंने कहा हिमाचल में भी शायद ऐसा हो। उन्होंने कहा कि यहां के पुलिस अधिकारी वाहन इस्तेमाल करने को विशेषाधिकार न समझें। वे सरकारी वाहनों का दुरुपयोग न करें, नहीं ताे कारवाई होगी।

सामुदायिक फैलाव को रोकने में कामयाब

डीजीपी ने कहा कि लाॅकडाउन और कफ्यू के दौरान हिमाचल के लोगों ने काफी सहयोग किया है। इस कारण राज्य में महामारी का सामुदायिक फैलाव राेकने में कामयाब रहे हैं। आगे बढ़ोत्तरी न हो, इसलिए सबको सरकार के आदेशों की पालना करनी होगी।

सिगरेट पीने वालों को रोग का ज्यादा खतरा

मरड़ी ने कहा चीन का अनुभव कहता कि सिगरेट पीने वालों पुरुषों की तादाद करीब पचास फीसद है। इस कारण वहां महिलाओं को कम वायरस फैला। उन्होंने हिमाचल के लोगों को सलाह दी है कि वे सिगरेट न पीएं, क्योंकि यह रोग धूमपान करने वालों में तेजी के फैलता है। खासकर हृदय रोगी इसका कतई सेवन न करें।

देसी शराब तैयार करने और पीने वालों को चेताया

डीजीपी ने प्रदेश में देसी शराब तैयार करने और इसे पीने वालों को भी चेताया। उन्होंने कहा यह बेहद खतरनाक है। इसे सेवन करने वालों की मौत हो सकती है। ऐसे में इस शराब का बिल्कुल भी सेवन न करें।

प्रधान दें सूचना

राज्य पुलिस ने पंचायत प्रधानों, वार्ड सदस्यों से आग्रह किया कि अगर कहीं भी उन्हें काेरोना लक्षण वाले लोग दिखें तो इसकी सूचना तत्काल स्वास्थ्य विभाग को दें। सूचना न छिपाएं। इसे बताने से रोग का सामुदायिक फैलाव नहीं हो पाएगा।

Posted By: Rajesh Sharma

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस