मंडी, जेएनएन। मंडी जिले के चार कोरोना संक्रमितों में से तीन लोग एक ही परिवार से हैं। इनमें मां, बेटा व बेटी शामिल हैं। राहत की बात यह है परिवार के मुखिया यानी महिला के पति की रिपोर्ट नेगेटिव आई है। चारों लोग 18 मई को मुंबई से जोगेंद्रनगर पहुंचे थे। ये लोग लडभड़ोल तहसील के फागला गांव के रहने वाले हैं। यह व्यक्ति मायानगरी मुंबई में सहायक निर्देशक है।

मुंबई में कोरोना संक्रमण बढ़ने व फिल्म सिटी में काम पूरी तरह बंद होने के बाद यह व्यक्ति स्वजनों के साथ 16 मई को मुंबई से विशेष ट्रेन में आया था। 18 मई की सुबह ऊना पहुंचा था। इसके बाद एचआरटीसी की बस से सरकाघाट के भांबला पहुंचे थे। वहां ब्रेकफास्ट व जांच के बाद इन्हें जोगेंद्रनगर को रवाना किया गया था।

चारों को राजस्व प्रशिक्षण संस्थान में बनाए गए संस्थागत क्वारंटाइन केंद्र में ठहराया गया था। इन्हें रहने के लिए दो कमरे दिए गए थे। एक कमरे में बेटा-बेटी व दूसरे में पति-पत्नी थे। प्रशासन ने एहितयातन चारों के सैंपल लिए थे। शुक्रवार देर रात तीन लोगों की रिपोर्ट पॉजिटिव व मुखिया की रिपोर्ट नेगेटिव आई है। रोग प्रतिरोधक क्षमता ठीक होने की वजह से सहायक निर्देशक कोरोना की चपेट में आने से बच गया।

 

तीनों संक्रमिताें को जोगेंद्रनगर उपमंडल प्रशासन ने शनिवार सुबह नेरचौक मेडिकल कॉलेज को शिफ्ट कर दिया है। इनके संपर्क में आए लोगों का पता लगाया जा रहा है। एचआरटीसी की जिस बस से यह लोग ऊना से जोगेंद्रनगर तक आए थे, उसके चालक परिचालक पहले से ही क्वारंटाइन हैं। दूसरी राहत की बात यह है क्वारंटाइन केंद्र में होने की वजह से इन लोगों की पंचायत कंटेनमेंट व बफर जोन में शामिल होने से बच गई हैं।

एसडीएम जोगेंद्रनगर अमित मेहरा का कहना है फागला के जो तीन लोग कोरोना संक्रमित पाए गए हैं। ये लोग एक ही परिवार से हैं। पति की रिपोर्ट नेगेटिव आई है। पत्नी, बेटा व बेटी पॉजिटिव पाए गए हैं। सभी लोग संस्थागत क्वारंटाइन केंद्र में थे, इसलिए चिंता की कोई बात नहीं है।

Posted By: Rajesh Sharma

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस