धर्मशाला, जेएनएन। कोरोना वायरस से बचाव के लिए शहरी व ग्रामीण क्षेत्रों में लोगों को जागरूक करने के लिए किया जा रहा प्रचार बुधवार रात 8 बजे से बंद हो गया है। साथ ही प्रचार वाहनों के कफ्यरू पास भी प्रशासन ने रद कर दिए हैं। अब यदि कोई वाहन सड़क पर प्रचार के लिए दौड़ेगा तो उसके मालिक के खिलाफ प्रशासन कार्रवाई करेगा। हालांकि निर्णय के मुताबिक यदि जरूरत पड़ती है तो प्रशासन दोबारा उपरोक्त प्रचार शुरू करेगा।

लाउड स्पीकर के माध्यम से इन वाहनों के जरिये कोरोना के खिलाफ जागरूकता की अलख जगाई जा रही है। प्रशासन के मुताबिक अभियान की अवधि समाप्त हो गई है और बुधवार रात आठ बजे से प्रचार बंद करवा दिया गया है। इस बाबत सूचना अतिरिक्त उपायुक्त ने संबंधित एसडीएम, बीडीओ व जिला पंचायत अधिकारी कांगड़ा को भी दी है। हार पंचायत प्रधान गुरचरण सिंह ने अतिरिक्त उपायुक्त की ओर से जारी आदेश की पुष्टि की है। उपायुक्त कांगड़ा राकेश प्रजापति ने बताया कि अब यदि ऐसे वाहन सड़क पर दौड़ते नजर आएंगे तो कार्रवाई अमल में लाई जाएगी।

15 हजार लोग क्वारंटाइन

कांगड़ा जिले के 15 हजार लोगों को होम क्वारंटाइन किया है। इन लोगों को जिला प्रशासन ने निर्देश जारी किए हैं कि सभी घर में ही रहें। उपमंडल नूरपुर के तहत एक गांव के कोरोना पॉजिटिव जमाती के संपर्क में आने वाले 27 लोगों के सैंपल स्वास्थ्य विभाग ने लिए थे। बुधवार को सभी सैंपलों की रिपोर्ट नेगेटिव आई है। उक्त व्यक्ति के संपर्क में आए शेष 29 लोगों के सैंपल भी बुधवार को लिए हैं और इनकी रिपोर्ट वीरवार को आएगी। उपायुक्त कांगड़ा राकेश प्रजापति ने कहा कि सभी उपमंडलाधिकारियों तथा पुलिस उपाधीक्षकों को दिशानिर्देश दिए हैं कि कफ्यरू के दौरान अपने-अपने उपमंडलों में विभिन्न स्थानों का निरीक्षण करें तथा कफ्यरू का उल्लंघन करने वालों के खिलाफ सख्त कदम उठाएं।

टोल बैरियरों पर वाहन चालकों का होगा चेकअप

सीमांत क्षेत्रों एवं टोल बैरियर पर वाहनों को सेनिटाइज करने की सुविधा प्रदान की गई है। इसके साथ ही गुड्स कैरियर तथा अन्य वाहनों के चालकों का चेकअप करने की सुविधा भी प्रदान की गई है। बाहरी राज्यों के लोगों के कांगड़ा आने पर रोक लगाई गई है। अगर कोई सीमा में प्रवेश करता हुआ पाया गया तो उसे वहां बनाए गए क्वांरटाइन केंद्र में रखा जाएगा।

सरकार के लिए हर समय तैयार वीएमआरटी : शांता

स्वामी विवेकानंद ट्रस्ट (वीएमआरटी) पालमपुर के अध्यक्ष एवं पूर्व मुख्यमंत्री शांता कुमार ने कहा कि कोरोना महामारी से निपटने के लिए प्रत्येक नागरिक तन-मन-धन से सरकार की सहायता करे। उन्होंने कायाकल्प संस्थान और विवेकानंद अस्पताल के लिए सरकार द्वारा मांगी गई सूचना के संबंध में बताया कि ट्रस्ट की दोनों संस्थान सरकार के लिए हर समय तैयार हैं और जब भी सरकार चाहेगी इनकी सेवाएं ले सकती है। बुधवार को यह बात उन्होंने कायाकल्प पहुंचे उपायुक्त राकेश प्रजापित व एसपी विमुक्त रंजन के साथ बातचीत करते हुए कही। दोनों अधिकारियों ने संस्थान में सुविधाओं का जायजा लिया। शांता कुमार ने कहा कि दोनों संस्थानों में कार्यरत कर्मचारियों की सेवाओं की आवश्यकता की स्थिति में भी सरकार को सेवाएं उपलब्ध करवाई जाएंगी। विवेकानंद ट्रस्ट के माध्यम से शांता कुमार पहले ही पांच लाख की राशि ट्रस्ट की ओर से और एक लाख निजी तौर से तथा दोनों संस्थानों से एक-एक लाख की राशि पीएम राहत कोष में भेज चुके हैं।

Posted By: Rajesh Sharma

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस