धर्मशाला, जेएनएन। जिला कांगड़ा से सरकारी कार्यालयों को मंडी शिफ्ट कर प्रदेश की जयराम ठाकुर सरकार सबसे बड़े जिला के साथ विकास में भेदभाव कर रही है। कांगड़ा विधायक पवन काजल ने पत्रकार वार्ता में कहा कि नूरपुर में स्थापित आइपीएच विभाग के ईएनसी प्रोजेक्ट के कार्यालय को मंडी में अगर शिफ्ट किया गया तो कांग्रेस कार्यकर्ताओं को साथ लेकर आंदोलन शुरू कर देंगे। काजल ने कहा नुरपुर में अभी छोंछ खड्ड, शाहनहर और स्वां खड्ड तटीकरण के कार्य चल रहे हैं, ऐसे में ईएनसी के कार्यालय को मंडी जिला में स्थानांतरित करने का सरकार का फैसला जनविरोधी है।

बेहतर होता अगर सरकार जिला कांगडा से सरकारी कार्यालय मंडी शिफ्ट करने के बजाय वहां पर नया कार्यालय खोलकर बेरोजगारों को रोजगार मुहैया करवाती। इन्वेस्टर मीट के नाम पर प्रदेश सरकार प्रचार और प्रसार में लाखों रुपये खर्च रही है, जबकि जिला कांगडा में सड़कों की हालात दयनीय बनी हुई है। अधिकारी मनमर्जी से लाखों रुपये के कार्य बिना टेंडरों के चहेतों को आबंटित कर भ्रष्टाचार को न्योता दे रहे हैं।

काजल ने कहा विधानसभा में प्रदेश सरकार ने लिखित में उन्हे जबाब दिया है कि गगल एयरपोर्ट में हवाई पटटी का विस्तार 1372 मीटर से 2000 मीटर करने की योजना है इसमें चार पंचायतें रछयालू व कुठमां और सनौरा व गगल प्रभावित होंगी। पुराना मटौर, इच्छी, जमानाबाद रोड व साथ लगते गांवों के लोग हवाई अड्डे के विस्तार के नाम पर गुमराह न हों। काजल ने प्रदेश सरकार पर बेरोजगारों को रोजगार मुहैया करवाने में नाकाम रहने का आरोप लगाते हुए कहा कि पूर्व कांग्रेस शासन में शुरू बेरोजगारी भत्ता भी भाजपा सरकार ने बंद कर युवा वर्ग से अन्याय किया है।

Posted By: Rajesh Sharma

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप