शिमला, राज्य ब्यूरो। Lockdown in Himachal Pradesh, कोरोना कर्फ्यू को लेकर इंटरनेट मीडिया पर की गई टिप्पणियों पर मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने करारा पलटवार किया है। उन्होंने कहा कि हिमाचल प्रदेश में किसी प्रकार का कोई लॉकडाउन नहीं है। कुछ चीजों की छूट और साथ में पांबंदियां भी लगाई हैं, मकसद यही है कि मानवता को बचाया जा सके। सरकार ने बेहद संतुलित निर्णय लिया है। आजीविका जरूरी है। सबका सोचने का नजरिया अलग हो सकता है। लेकिन बहुत लोग बहुत तरह की बातें कर रहे हैं। कुछ बुदि्धजीवी सरकार को पढ़ाने लगे हैं, बेहतर होगा कि ये अपना ज्ञान अपने पास रखें। इन्हें सरकार को गाली दिए बगैर तसल्ली नहीं होती।

बकौल जयराम ठाकुर हिमाचल प्रदेश के एक वकील ऐसे भी हैं, जिनकी भाषा सही नहीं है। इन पर तल्ख टिप्प्णी करते हुए कि पता नहीं ये कहां पढ़े हैं, लेकिन वह इनके इतिहास के बारे में सब कुछ जानते हैं। हालांकि उन्होंने कहा कि वह इस बारे में कुछ बोलना नहीं चाहते, लेेकिन जो कल्चर ये पैदा कर रहे हैं, वह दुर्भाग्यपूर्ण है। मुख्यमंत्री ने कहा कि जहां भी सरकार की कमियां है, उसके बारे में, मुद्दों के बारे में कोई भी जरूर बाेलें, मगर संकट काल में बोलने से ज्यादा मदद करने के लिए आएं।

सरकार कर रही हर संभव कोशिश

मुख्यमंत्री ने कहा प्रदेश सरकार कोरोना की रोकथाम के लिए हर संभव कोशिश कर रही है। इसकी चेन को तोड़ा जा सके, इस कारण कुछ और पाबंदियां लगाई गई हैं। लोगों को भयभीत होने की आवश्यकता नहीं है। सरकार हालात पर काबू पाने के प्रयासों में जुटी हुई है और इसमें केंद्र सरकार निरंतर मदद कर रही है।

यह भी पढ़ें: कोरोना महामारी के बीच अंबुजा सीमेंट कंपनी ने द‍िए 350 ऑक्‍सीजन सिलेंडर, रोजाना 10 टन उत्पादन संभव

यह भी पढ़ें: Himachal Covid Cases Update: कोरोना संक्रमण के एक्‍ट‍िव केस 31 हजार के पार, इन जिलों में बिगड़ रहे हालात

यह भी पढ़ें: हर कोरोना संक्रमित मरीज को रेमडेसिविर इंजेक्शन लगाना जरूरी नहीं, जानिए क्‍या कहते हैं विशेषज्ञ

यह भी पढ़ें: कोरोना से बिगड़े हालात के बाद कांगड़ा सहित चार जिलों में बढ़ाई सख्‍ती, जान‍िए सरकार के नए दिशा निर्देश