धर्मशाला, जेएनएन। ग्लोबल इन्वेस्टर्स मीट में देश-विदेश से आने वाले निवेशक विभिन्न सेक्टरों में लाखों वर्ग मीटर भूमि पर निवेश कर सकते हैं। इसके लिए प्रदेश सरकार ने निजी व सरकारी भूमि का बैंक तैयार किया हैै। मुख्य रूप से छह जिलों में फोकस कर 419436 वर्ग मीटर सरकारी भूमि तैयार की है। इसके अलावा निवेशकों को उद्योग लगाने के लिए भूमि लीज पर देने के लिए 320 लोग भी सामने आए हैं। सरकार की ओर से बनाए गए लैंड बैंक के अनुसार, प्रदेश के छह जिलों में 419436 वर्ग मीटर जमीन है। सरकार ने बड़े उद्योगपतियों की संभावित जमीन की जरूरतों के दृष्टिगत कांगड़ा जिले के ढलियारा, नगरी, राजा का बाग व कंदरोड़ी में सबसे अधिक 1,70,871 वर्ग मीटर के 88 प्लॉट की व्यवस्था की है।

इसके अलावा ऊना के टाहलीवाल, गगरेट, मैहतपुर, जीतपुर व पंडोगा औद्योगिक क्षेत्र में 1,67,569 वर्ग मीटर के 62 प्लॉट, सोलन के काठा, बलांगी व ममलीग इंडस्ट्रियल एरिया में 43038 वर्ग मीटर के 35 प्लॉट, शिमला में 11,617 वर्ग मीटर में 19, बिलासपुर के ग्वालथाई में 16,257 वर्ग मीटर के 19 और चंबा के गरनोटा व हटली क्षेत्र में 10,064 वर्ग मीटर के 23 प्लॉट की व्यवस्था की है। इसके अलावा 320 लोगों ने भी निजी भूमि देने की बात कही है। इनमें से 111 लोग भूमि लीज पर देने के लिए तैयार हैं, जबकि 209 लोग उद्योगपतियों को जमीन बेचने के लिए भी तैयार हैं। इन लोगों की पहचान व संपर्क नंबर भी सरकार ने इन्वेस्टर्स मीट की वेबसाइट में अपलोड किए हैं। अगर निवेशक चाहें तो किसी भी वक्त भूमिधारकों से बात कर सकते हैं।

Posted By: Rajesh Sharma

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस