जागरण संवाददाता, धर्मशाला : केंद्रीय विश्वविद्यालय को नालंदा विश्वविद्यालय की तर्ज पर विकसित किया जाएगा, ताकि देश व विदेश के छात्र यहां शिक्षा ग्रहण कर सकें। यह बात शिक्षा मंत्री गोविद ठाकुर ने केंद्रीय विश्वविद्यालय पर्यटन सोसायटी की ओर से खन्यारा में विश्व पर्यटन दिवस पर आयोजित कार्यक्रम में कही।

उन्होंने केंद्रीय विवि को 50 फीसद राष्ट्रीय शिक्षा नीति लागू करने के लिए बधाई दी। शिक्षा मंत्री ने कहा कि हिमाचल के पर्यटन को अधिक विख्यात व प्रभावी बनाएगा।

उन्होंने कहा कि हिमाचल में पर्यटन की अपार संभावनाएं हैं। उन्हें पूरा विश्वास है कि केंद्रीय विश्वविद्यालय का पर्यटन विभाग व छात्र पर्यटन के क्षेत्र में सबका मार्गदर्शन करेंगे। कुलपति प्रो. एसपी बंसल ने बताया कि प्रदेश में अध्यात्मिक व वेलनेस टूरिज्म की अधिक संभावनाएं हैं। इसके जरिए रोजगार बढ़ाया जाएगा। टूरिज्म क्षेत्र से जुड़े सभी स्टेकहोल्डर्स को प्रशिक्षण दिलाया जाएगा। हिमाचल का अध्यात्मिक पर्यटन विश्व विख्यात बने, इसके लिए केंद्रीय विश्वविद्यालय प्रयासरत है। इसके अंतर्गत डिप्लोमा कोर्स करवाया जाएगा ताकि युवाओं को रोजगार मिल सके। विधायक विशाल नैहरिया ने कहा कि धर्मशाला से मैक्लोडगंज रोप-वे का उद्घाटन अक्टूबर में किया जाएगा। चामुंडा से आदि हिमानी चामुंडा रोपवे का एमओयू कर इसे पर्यटन की दृष्टि से विकसित किया जाएगा। उन्होंने बताया कि धर्मशाला में सेल्फी प्वाइंट का निर्माण कार्य जारी है। इसमें हिमाचल की संस्कृति की झलक देखने को मिलेगी। अंत में कुलपति ने पांच छात्रों को पुरस्कार दिए।

Edited By: Jagran