जयसिंहपुर, जेएनएन। नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) के समर्थन में लोगों को जागरूक करने के लिए सोमवार को जयसिंहपुर मंडल भाजपा ने कार्यक्रम करवाया। इस दौरान विधायक रविंद्र धीमान के नेतृत्व में रेस्ट हाउस से जयसिंहपुर बाजार तक रैली निकाली तथा सीएए के पक्ष में नारेबाजी भी की। विधायक रविंद्र धीमान ने कहा कि  सीएए केंद्र सरकार द्वारा देश हित में लिया गया महत्वपूर्ण कदम है। इससे लोगों की नागरिकता को सुनिश्चित किया गया है।

उन्होंने कहा कि कुछ लोग एक समुदाय के लोगों को गुमराह कर रहे हैं। इन नेताओं को इस अधिनियम की जरा भी जानकारी नहीं है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, गृह मंत्री अमित शाह और केंद्र सरकार का यह साहसिक कदम है, जिससे देश में किसी की नागरिकता को कोई खतरा नहीं है। सीएए के खिलाफ दुष्प्रचार करने वाले लोग बेनकाव हों। इसके लिए देश में जनजागरण अभियान चलाया जा रहा है।

इस अवसर पर जिला पालमपुर भाजपा अध्यक्ष हरिदत्त शर्मा, जिला महामंत्री देवेंद्र राणा, मंडल अध्यक्ष रामरतन शर्मा, संजीव ठाकुर, विनोद शर्मा, सोमदत्त शर्मा, संजीव ठाकुर, नवीन कटोच, सुनील राणा, पंकज ठाकुर,  हनुमंत शर्मा, विनोद चौधरी मौजूद रहे।

बिलासपुर में भाजपा कार्यकर्ताओं ने लोग किए जागरूक

बिलासपुर के पोलिंग बूथ एक, दो व तीन के भाजपा प्रभारी करनैल सिंह ने सीएए के बारे में लोगों को जागरूक किया। उन्होंने बताया कि सीएए बारे लोगों को विस्तृत रूप से बताया जा रहा है और हर बूथ से पांच-पांच पत्र प्रधानमंत्री कार्यालय को प्रेषित कर रहे हैं।

अधिवक्ता अभिषेक ने सीएए का महत्व बताया

मां ज्वाला स्किल इंडिया डेवलपमेंट सेंटर चंबापत्तन में अधिवक्ता अभिषेक पाधा ने प्रशिक्षुओं को सीएए का महत्व बताया। इस कानून में क्या है, इसके बारे में विद्यार्थियों को जागरूक किया गया। इस दौरान संस्थान के छात्र-छात्राओं को शपथ दिलाई गई कि हमारे आसपास रहने वाले भारत वासियों को नागरिकता संशोधन अधिनियम के बारे में अवगत कराएंगे और सबको यह बताने का प्रयास करेंगे कि नागरिकता संशोधन अधिनियम भारत वासियों के लिए एवं भारत के नागरिकों के लिए सरकार द्वारा लिया गया अनुचित फैसला नहीं है।

हिंसक घटनाओं के लिए पक्ष व विपक्ष जिम्मेदार : मंच

प्रदेश सर्वसमाज जनहित मंच पालमपुर के अध्यक्ष भुवनेश सूद ने सीएए के तहत देश भर में हिंसक घटनाओं के लिए पक्ष और विपक्ष को जिम्मेदार ठहराया है। पत्रकारों से बातचीत करते हुए मंच अध्यक्ष ने कहा कि 10 जनवरी 2020 से लागू कानून की पालना होना जरूरी है। प्रजातंत्र में विरोध करने के अधिकार में हिंसा की कोई जगह नहीं है। इसको लेकर देश के कई हिस्सों में पक्ष और विपक्ष ने रैलियां कीं व दुर्भाग्य से इसमें हिंसा भी हुई। केंद्र सरकार ने बहुमत का फायदा उठाकर कानून को अल्पमत पर थोप दिया।

Posted By: Rajesh Sharma

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस