शिमला, राज्य ब्यूरो।  हिमाचल प्रदेश की रेडक्रास समिति और जिला रेडक्रास शाखाएं आयुर्वेद को बढ़ावा देने के साथ वर्ष 2022-23 में वरिष्ठ नागरिकों की स्वास्थ्य जांच के लिए स्वास्थ्य शिविर लगाने, स्कूलों और महाविद्यालयों में नशा निवारण शिविरों के आयोजन और कोरोना वायरस के ओमिक्रोन के खिलाफ सामुदायिक स्तर पर जागरूकता शिविर लगाएगी। 

यह निर्णय राज्य रेेडक्रास समिति के अध्यक्ष व प्रदेश के राज्यपाल राजेंद्र विश्वनाथ आर्लेकर की अध्यक्षता में आयोजित बैठक में लिया गया। आपदा प्रबंधन से संबंधित प्रशिक्षण भी युवा और कनिष्ठ रेडक्रास गतिविधियों में शामिल किया जाए। इस अवसर पर रेड क्रास शाखा कुल्लू, सोलन और सिरमौर को बेहतरीन कार्य के लिए सम्मानित किया गया। कुल्लू के उपायुक्त आशुतोष गर्ग, सोलन की उपायुक्त कृतिका कुल्हारी और सिरमौर के उपायुक्त राजकुमार गौतम ने यह सम्मान प्राप्त किया। इन तीनों जिलों की शाखाओं ने लोगों को मदद पहुंचाने के साथ जागरूकता और एंबुलेंस संचालय के माध्यम से बेहतर कार्य किया है। राज्यपाल ने कहा कि रेडक्रास के माध्यम से आयुर्वेदिक स्वास्थ्य शिविर आयोजित किए जाएं और बढ़ावा दिया जाए। इससे पहले स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री डा. राजीव सैजल ने कहा कि रेडक्रास ने पीडि़त मानवता की सेवा में हमेशा से सराहनीय कार्य किया है।

जिला शाखाएं पांच वर्षों के कार्यों का करेें प्रारूप तैयार

जिला रेड क्रास की शाखाओं को पांच वर्षों में किए जाने वाले कार्यों को प्रारुप तैयार करने को कहा जिससे रेडक्रास को जन आंदोलन बनाने के साथ इसके उद्देशयों को सार्थक कर सके। गत दो वर्षों में लगभग प्रत्येक क्षेत्र कोरोना महामारी के कारण प्रभावित हुआ है।

किशोरी स्वास्थ्य गतिविधियां हों आयोजित : साधना

भारतीय रेडक्रास की राष्ट्रीय प्रबंधन की सदस्या एवं अस्पताल कल्याण समिति की अध्यक्षा डा. साधना ठाकुर ने कहा कि अस्पताल कल्याण समिति को जिला स्तर पर मजबूत करने की आवश्यकता है। अगामी वित्त वर्ष में रेडक्रॉस के माध्यम से बालिकाओं के लिए किशोरी स्वास्थ्य सेवा संबंधित गतिविधियां आयोजित की जा सकती हैं। उन्होंने विशेष रूप से सक्षम बच्चों के लिए शिविर आयोजित करने तथा उप-मंडल स्तर पर रेडक्रास मेलों का आयोजन करने पर बल दिया।

Edited By: Neeraj Kumar Azad