मनाली, जेएनएन। भारत सरकार ने सीमावर्ती क्षेत्रों को मजबूती प्रदान करने के लिए सड़क मार्ग सहित रेल मार्ग पर भी गंभीरता से कार्य करना शुरू कर दिया है। सामरिक दृष्टि से महत्वपूर्ण बिलासपुर-लेह रेललाइन परियोजना के तहत अब पीर पंजाल की पहाड़ी में एक आैर सुरंग बनाई जाएगी। अटल टनल के बनते ही अब लेह लद्दाख को रेलवे से जोड़ने के लिए जदोजहद शुरू हो गई है। उत्तर रेलवे के परियोजना निदेशक हरपाल सिंह के दौरे के बाद मनाली में भी हलचल तेज हो गई है।

हालांकि अभी यह तय नही हुआ है कि टनल का निर्माण किस दिशा में होना है। लेकिन यह तय हो गया है कि पीर पंजाल की पहाड़ी में रेलवे टनल का निर्माण होना है। सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार लाहुल की ओर भागा नदी को देखते हुए यह टनल भी अटल रोहतांग टनल की तरह ऊंचाई पर ही बनेगी। सामरिक दृष्टि से महत्वपूर्ण बिलासपुर-लेह रेललाइन परियोजना के तहत रोहतांग में बनने वाली यह सुरंग सीमावर्ती क्षेत्र को मजबूती प्रदान करेगी।

उत्तर रेलवे के परियोजना निदेशक हरपाल सिंह ने पीर पंजाल की पहाड़ियों का दौरा किया। उन्होंने  डीआरडीओ, आइआइटी रुड़की, केंद्रीय संस्थान सासे के वैज्ञानिक से भी टनल निर्माण को लेकर चर्चा की। उधर, मनाली में एक ओर टनल निर्माण को लेकर हलचल तेज हाे गई है।

अटल टनल रोहतांग का निर्माण दस हजार फीट की ऊंचाई पर किया गया है, इसी के समांतर एक आैर सुरंग का निर्माण होगा। बिलासपुर से लेह तक रेललाइन बिछाने का कार्य पूरा होने पर सेना आसानी से सरहद तक पहुंच पाएगी। इसके लिए केंद्र सरकार इस परियोजना को लेकर पूरी तरह से गंभीर है।

यह भी पढ़ें: Atal Tunnel Rohtang: पर्यटक विस्‍टाडॉम बस में निहारेंगे राेहतांग टनल, दोनों पाेर्टल पर विकसित होंगे पर्यटन स्‍थल

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस