शिमला, राज्य ब्यूरो। पर्यटन विकास निगम ने पर्यटकों को लुभाने के लिए 15 सितंबर तक बुङ्क्षकग पर 30 फीसद की छूट देने की घोषणा की है। प्रदेश में निगम के होटलों में ठहरने वाले पर्यटकों को कमरे की बुङ्क्षकग पर छूट का लाभ मिलेगा। पर्यटन निगम के होटलों में दो हजार रुपये से लेकर सात हजार रुपये तक के कमरे उपलब्ध हैं। करीब एक हजार कमरों की क्षमता के होटल विभिन्न पर्यटन स्थलों पर हैं। इसके अतिरिक्त मनाली, हिङ्क्षडबा, पौंग डैम व चायल में लाग हट्स भी हैं। सरकार की ओर से 11 जून को मंत्रिमंडल की बैठक में पर्यटकों के लिए आरटीपीसीआर रिपोर्ट की शर्त हटाने के बाद निगम के होटलों में पर्यटकों की आमद बढ़ी है।

कोरोना की दूसरी लहर के बाद लगाए गए कोरोना कफ्र्यूू के कारण सचिवालय व दूसरे जिलों में व्यावसायिक कार्य के लिए आने वाले लोग ही होटलों में पहुंच रहे थे। ऐसे में निगम के होटलों में लोगों की आमद दो से पांच फीसद रह गई थी। निगम प्रबंधन ने कोरोना कफ्र्यू लगते ही कमरों की बुङ्क्षकग के लिए 15 जून तक 20 फीसद की छूट देने की घोषणा की थी। इसे निगम प्रबंधन ने संशोधित कर 30 फीसद करते हुए 15 सितंबर तक बढ़ाया है। पर्यटन निगम व निजी क्षेत्र में कुल पांच हजार होटल हैं। इसके अतिरिक्त होम स्टे की संख्या भी होटलों की संख्या के बराबर पहुंच चुकी है। राज्य में बी एंड बी यानि बेड एंड ब्रेकफास्ट की नई स्कीम का भी तेजी से विस्तार हो रहा है।

बढ़ेगी पर्यटकों की संख्या

हमें उम्मीद है कि आने वाले सप्ताह में पर्यटकों की आमद बढ़ेगी। कोरोना कफ्र्यू के दौरान आरटीपीसीआर रिपोर्ट के कारण पर्यटक आने में हिचकिचा रहे थे। अब देखते हैं कि पर्यटक कितने आते हैं, निगम आतिथ्य स्तकार के लिए तैयार बैठा है।

- अश्विनी सोनी, महाप्रबंधक पर्यटन विकास निगम।

पर्यटन व्यवसाय को एक बार फिर से शुरूआत देने के लिए निगम प्रबंधन की ओर से बुङ्क्षकग में छूट को 30 फीसद किया गया है। पर्यटकों को स्वस्थ व सुरक्षित सुविधाएं उपलब्ध करवाने के लिए होटलों व परिसर को सैनिटाइज्ड करने के निर्देश दिए गए हैं। कर्मचारी मास्क पहनकर सेवाएं देंगे। मेहमानों को खानपान परोसने के लिए प्रत्येक कर्मी हाथों में ग्ल्व्स पहने रहेगा।

- कुमुद ङ्क्षसह, प्रबंध निदेशक राज्य पर्यटन विकास निगम।

 

Edited By: Vijay Bhushan